Hindi News »Madhya Pradesh »Timarni» ग्रामीणों को लिखकर देना होगा अदा करेंगे जल कर, तब शुरू होगी नलजल योजना

ग्रामीणों को लिखकर देना होगा अदा करेंगे जल कर, तब शुरू होगी नलजल योजना

हरदा. निर्माणाधीन नलजल योजना की टंकी। पीएचई विभाग मॉडल के तौर पर करताना और बिच्छापुर में नलजल योजना शुरू करा रहा...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 10, 2018, 05:50 AM IST

हरदा. निर्माणाधीन नलजल योजना की टंकी।

पीएचई विभाग मॉडल के तौर पर करताना और बिच्छापुर में नलजल योजना शुरू करा रहा

भास्कर संवाददाता | हरदा

जिले की 24 ग्राम पंचायतों और उसमें रहने वाले 35 हजार ग्रामीणों को वादा करना होगा कि वे नल कनेक्शन लेंगे और उसके कर का भुगतान भी समय पर करेंगे। इसके बाद मुख्यमंत्री ग्राम नलजल योजना के तहत चयनित गांवों में नलजल योजना शुरू हो सकेगी।

नियमानुसार 70 प्रतिशत ग्रामीणों को लिखित में नल कनेक्शन लेने का वादा करना होगा। पीएचई विभाग मॉडल के तौर पर करताना और बिच्छापुर में नलजल योजना शुरू करा रहा है। इसके बाद बाकी 23 में से 11 ग्राम पंचायतों में प्राथमिकता से योजना शुरू हो सकेगी। इसके लिए प्रस्ताव भी तैयार हो गए हैं।

3 अन्य गांवों में भी हुई बोरिंग

जिले में गर्मी के दिनों में जल संकट की आहट को देखते हुए प्रशासन ने भी तैयारियां शुरू कर दी हैं। वाटर लेवल औसत से नीचे चला गया है। शनिवार से नहर बंद होते ही और तेजी से जल स्तर गिरेगा। इसके बाद सबसे अधिक परेशानी खिरकिया ब्लॉक व टिमरनी के वनांचल में आएगी।

गर्मी में गहराने वाले पेयजल संकट के मद्देनजर पीएचई विभाग तेजी से काम कर रहा है। करताना, बिच्छापुर सहित कुछ अन्य गांवों में बोर कराए गए हैं। पानी आने के बाद विभाग को रिपोर्ट दी जाएगी। इससे अन्य गांवों में सीएम ग्राम नलजल योजना में काम शुरू किया जा सके।

करताना में नलकूप में पर्याप्त पानी निकलने के बाद विभाग ने 1.22 करोड़ रुपए लागत की योजना पर काम शुरू कर दिया है। गांव में घरों की संख्या, आबादी, पाइप लाइन की दूरी सहित तमाम प्रक्रिया पूरी कर ली है। अधिकारियों ने बताया करताना में 261 घरों में 3400 लोगों को गर्मी में पेयजल संकट का सामना नहीं करना पड़ेगा।

यह होगा योजना में

योजना के तहत गांवों में ट्यूबवेल खनन कराया जाएगा। नल कनेक्शन के लिए पाइप लाइन बिछाई जाएगी। संपवेल का निर्माण, बिजली कनेक्शन व मोटर लगाई जाएगी। सबसे महत्वपूर्ण पहलू पहलू यह है कि योजना में ग्रामीणों व ग्राम पंचायत से वचन पत्र भराया जा रहा है। इसके तहत ग्रामीणों को लिखकर देना होगा वे जलकर का भुगतान समय पर करेंगे। इस योजना को दो साल तक ठेकेदार खुद संचालित करेगा। इसके बाद चालू हालत में ग्राम पंचायत को योजना हैंडओवर की जाएगी।

यहां शुरू होगी योजना

हरदा ब्लॉक की सिगोन, रिजगांव, करनपुरा, सिरकंबा, बिछोलामाल, बिछोला रैयत, धुरगाड़ा, नकवाड़ा, खिरकिया ब्लॉक की ग्राम पंचायत महेंद्रगांव, कालधड़, रामटेक रैयत, ग्राम पंचायत रुनझुन के गांव सांगवामाल, मुहाड़िया, गोमगांव, जटपुरामाल ग्राम पंचायत के गांव सोनपुरा, बमनगांव, टिमरनी ब्लॉक के बिच्छापुर, करताना, बघवाड़, पानतलाई, गुल्लास, रुंदलाय, नयागांव व छिदगांव मेल में योजना का काम शुरू कराया जाएगा। इन योजनाओं पर करीब 20 करोड़ रुपए खर्च होंगे।

48 मीटर तक गिरा जल स्तर

जिले का औसत वाटर लेवल 35 से 40 मीटर के बीच है। लेकिन इन दिनों कुछ क्षेत्रों में वाटर लेवल 45 मीटर तक गिर गया है। पानी का लेवल औसत से नीचे जाने के कारण अधिकारी भी चिंतित हैं। औसत से कम बारिश के चलते जल संकट गहराने लगा है। 10 फरवरी से नहर बंद होने के बाद जिले में तेजी से वाटर लेवल गिरेगा। इससे जल संकट और अधिक गहराएगा। विभाग के अधिकारियों का कहना है वर्तमान में जल संकट की स्थिति नहीं है।

वचन पत्र भरवाए जा रहे हैं

मुख्यमंत्री ग्राम नलजल योजना के तहत ग्रामीणों व ग्राम पंचायतों से कनेक्शन लेने के लिए वचन पत्र भराए जा रहे हैं। मॉडल के रूप में करताना व बिच्छापुर में योजना शीघ्र शुरू कराई जा रही है। ठेकेदार दो साल तक नलजल योजना संचालित करेगा। एसके पवार, ईई पीएचई, हरदा

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Timarni

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×