Hindi News »Madhya Pradesh »Timarni» 4 घंटे भूखे-प्यासे लाइन में लगे किसान, फिर भी नहीं हो सका चने का पंजीयन, वापस लौटे

4 घंटे भूखे-प्यासे लाइन में लगे किसान, फिर भी नहीं हो सका चने का पंजीयन, वापस लौटे

हरदा। मंडी में भावांतर के पंजीयन के लिए कतार में लगे किसान। 88 केंद्रों पर होगी गेहूं की खरीदी जिले में इस साल...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 10, 2018, 05:50 AM IST

हरदा। मंडी में भावांतर के पंजीयन के लिए कतार में लगे किसान।

88 केंद्रों पर होगी गेहूं की खरीदी

जिले में इस साल 88 केंद्रों पर समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीदी होगी। इसके लिए 45557 किसानों ने पंजीयन कराया है। समर्थन मूल्य पर 4.50 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीदी का लक्ष्य रखा है। इस वर्ष पहले छोटे किसानों का गेहूं खरीदा जाएगा। इसके बाद बड़े किसानों का नंबर आएगा। इसके लिए एसएमएस से व्यवस्था बनाई है।

यह कहना है किसानों का

अधिकारियों ने भी हाथ खड़े कर दिए

दो दिन से मंडी के पंजीयन केंद्र के चक्कर लगा रहे हैं। तीन से चार घंटे लाइन में लगने के बाद भी पंजीयन नहीं हो सका। भूखे-प्यासे लाइन में लगे हैं। अधिकारियों को कोई चिंता नहीं है। प्रशिक्षित ऑपरेटर बैठाकर काम कराना चाहिए, लेकिन ऐसा नहीं है। अधिकारियों को भी समस्या से अवगत कराया, लेकिन उन्होंने भी हाथ खड़े कर दिए। -सुंदर विश्नोई, नीमगांव

कोई सुनवाई करने वाला नहीं है

पहला नंबर मेरा ही था। सुबह 9 बजे से लाइन में लगे हैं। दोपहर दो बजे तक भूखे-प्यासे हैं। अब तक चना का एक पंजीयन भी नहीं हो सका है। इससे किसानों में गुस्सा तो होगा। अधिकारी भी कोई सुनवाई नहीं कर रहे हैं। पूनमचंद गौर, भाटपरेटिया

भावांतर के पंजीयन के लिए केंद्र बढ़ा दिए हैं। मंडियों के अलावा सहकारी बैंक शाखाओं में भी पंजीयन हो रहे हैं। पंजीयन की तिथि बढ़ाकर 24 मार्च कर दी है। किसानों की समस्या के शीघ्र निराकरण के प्रयास किए जा रहे हैं। -छविकांत वाघमारे, सहायक आयुक्त, सहकारी संस्थाएं

ऑपरेटर भी सीधे मुंह बात नहीं कर रहे

दो दिन से चक्कर लगा रहा हूं। साढ़े तीन घंटे लाइन में लगने के बाद पता चला कि सर्वर डाउन है। ऑपरेटर भी सीधे मुंह बात नहीं कर रहे। मंडी के अधिकारी से भी मुलाकात नहीं हो पाई। समस्या किसे बताएं। अब बिना पंजीयन के लौटना पड़ रहा है। राजेश सारन, कायागांव

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Timarni

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×