Hindi News »Madhya Pradesh »Timarni» नहर विभाग के 50 साल पुराने जर्जर भवन में तिरपाल लगाकर काम कर रहे कर्मचारी

नहर विभाग के 50 साल पुराने जर्जर भवन में तिरपाल लगाकर काम कर रहे कर्मचारी

नहर विभाग का कार्यालय जर्जर हो चुका है। विभाग का कार्यालय करीब 50 साल पुराना है। जिससे छत से मलवा टपकता रहता है। इस...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 12, 2018, 06:25 AM IST

नहर विभाग का कार्यालय जर्जर हो चुका है। विभाग का कार्यालय करीब 50 साल पुराना है। जिससे छत से मलवा टपकता रहता है। इस कारण मजबूरी में अधिकारी-कर्मचारियों को तिरपाल लगाकर काम करना पड़ रहा है। इससे कर्मचारियों को हमेशा डर लगा रहता है। ऐसे में कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है।

नगर के रहटगांव रोड पर स्थित नहर विभाग का कार्यालय काफी जर्जर हो चुका है। भवन में जगह-जगह दरारें आ गईं हैं। इस कारण यह भवन कभी भी गिर सकता है। इस भवन में विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों को काम करते समय डर सताता है। भवन की छत का प्लास्टर पूरी तरह निकल गया है। जगह-जगह से सरिए निकल आए हैं। ऐसे में पूरी छत से बारिश के दिनों में पानी टपकता रहता है। बारिश के दिनों में बैठना तो दूर कर्मचारियों का काम करना तक मुश्किल हो जाता है।

झड़ते प्लास्टर से बचने तिरपाल बांधा

भवन 50 साल पुराना होने से छत का प्लास्टर गिरता रहता है। प्लास्टर से बचने के लिए कर्मचारियों ने भवन की छत के नीचे तिरपाल बांध दिया है। जिससे प्लास्टर के टुकड़े सिर पर नहीं गिरे। कर्मचारियों का कहना है कि कई बार तिरपाल के गिरने से कर्मचारियों को हल्की चोटें आई हैं। इसे देखते हुए सुरक्षा के तौर पर तिरपाल बांधी है। जिससे कि हादसा न हो।

टिमरनी। जर्जर भवन में बांधी तिरपाल और छत से निकले सरिए। दूसरे चित्र में तिरपाल के नीचे काम करते कर्मचारी

डर के कारण हेलमेट पहनकर आते

भवन की जर्जर हालत के कारण किसान और अन्य बाहरी लोग भवन में आने से डरते हैं। कुछ लोग हेलमेट पहनकर आते हैं तो किसान भी सिर पर गमछा और पकड़ी बांधकर आते हैं। जिससे कि प्लास्टर समेत अन्य सामग्री छत से नहीं गिरे। जिससे कि कोई अप्रिय घटना घटित न हो। उनका कहना है कि भवन अधिकारियों को समस्या बताने के लिए जब आते है तो भवन के जर्जर होने से काफी डर लगता है। समस्या का समाधान किया जाना चाहिए।

नए भवन निर्माण की मांग की

ऐसा भी नहीं है कि विभाग के पास भवन निर्माण के लिए राशि की कमी हो। क्षेत्र का अधिकांश हिस्सा सिंचित होने से बजट की कोई कमी नहीं है। नहर विभाग की कई शाखाएं हैं। विभाग को सिंचाई से काफी आमदनी हो रही है, लेकिन इसके बाद भी विभाग के नए भवन का निर्माण नहीं हो रहा है। कर्मचारियों का कहना है कि सभी के हित में जर्जर भवन का जल्द से जल्द निर्माण किया जाए।

शीघ्र ही निर्माण कराया जाएगा

सब डिवीजन की बिल्डिंग का प्रस्ताव भेजा है, जैसे ही नए भवन की स्वीकृति मिलती है, उसका निर्माण कराया जाएगा। अमरदीप कंसोरिया, एसडीओ, टिमरनी

कुछ माह पहले अधीक्षण यंत्री को मेंटेनेंस के लिए प्रस्ताव भेजा है, स्वीकृति मिलते ही भवन का मेंटेनेंस कराया जाएगा। एससी मंडोरिया, एसई, टिमरनी

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Timarni

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×