Home | Madhya Pradesh | Timarni | किसानों को नहीं मिली उड़द की राशि लगाना पड़ रहे बैंक व मंडी के चक्कर

किसानों को नहीं मिली उड़द की राशि लगाना पड़ रहे बैंक व मंडी के चक्कर

समर्थन मूल्य पर उड़द बेचने के 8 माह बाद भी किसानों को उपज का भुगतान नहीं हुआ है। इस कारण किसान बैंक और मंडी कार्यालय व...

Bhaskar News Network| Last Modified - Feb 17, 2018, 07:20 AM IST

किसानों को नहीं मिली उड़द की राशि लगाना पड़ रहे बैंक व मंडी के चक्कर
किसानों को नहीं मिली उड़द की राशि लगाना पड़ रहे बैंक व मंडी के चक्कर
समर्थन मूल्य पर उड़द बेचने के 8 माह बाद भी किसानों को उपज का भुगतान नहीं हुआ है। इस कारण किसान बैंक और मंडी कार्यालय व अधिकारियों के चक्कर लगा रहे हैं, लेकिन उनकी समस्याओं का समाधान नहीं हो रहा है। शुक्रवार को छीपानेर का किसान हरनाथ सिंह तहसील कार्यालय पहुंचा, लेकिन अधिकारियों के नहीं मिलने के कारण घंटों इंतजार करता रहा। बाद में मायूस होकर लौट गया। किसान हरनाथ सिंह ने बताया उन्होंने कृषि उपज मंडी में 15 जून से 15 जुलाई के बीच हुई समर्थन मूल्य की खरीदी में प|ी के नाम से 17.30 क्विंटल उड़द, 5 हजार के भाव में 23 जुलाई 2017 को बेची। इसका 86 हजार 500 रुपए का भुगतान अब तक अटका हुआ है। किसान ने कहा बार-बार बैंक, मंडी व कार्यालय का चक्कर लगा रहा हूं। उन्होंने कहा इसी लापरवाही के कारण किसान आत्महत्या जैसे कदम उठाने को मजबूर हो रहे हैं।

पोखरनी में तेज हवा व बारिश से बिछी

गेहूं की फसल, सर्वे की मांग

करताना| पोखरनी सहित आसपास के गांवों में पिछले दिनों तेज बारिश के साथ चली हवा में गेहूं की फसल बिछ गई। जो अब तक खड़ी नहीं हुई है। इससे किसान चिंतित हैं। किसानों का कहना है ओले व बारिश ने फसलों को काफी नुकसान पहुंचाया। पोखरनी, नौसर क्षेत्र में गेहूं की फसल जमीन से चिपक गई है। इसका असर उत्पादन पर पड़ेगा। साथ ही गेहूं का दाना भी पतला पड़ जाएगा। किसानों ने शीघ्र सर्वे कराने की मांग की है।

prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |