Hindi News »Madhya Pradesh »Timarni» मजरों को रोशन करने लगने लगे खंभे खेड़ी टप्पर होगा सबसे पहले रोशन

मजरों को रोशन करने लगने लगे खंभे खेड़ी टप्पर होगा सबसे पहले रोशन

टोलों- मजरों को अंधेरे से मुक्ति दिलाने की शासन की योजना पर बिजली कंपनी ने काम करना शुरू कर दिया है। इस योजना में...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 15, 2018, 07:30 AM IST

टोलों- मजरों को अंधेरे से मुक्ति दिलाने की शासन की योजना पर बिजली कंपनी ने काम करना शुरू कर दिया है। इस योजना में सबसे पहले पुरा के पास खेड़ी टप्पर में बिजली पहुंचाने की योजना पर काम शुरू हो गया है। इससे खेड़ी टप्पर में रहने वाले करीब 15 परिवारों के 100 लोगों को अंधेरे से मुक्ति मिल जाएगी। इनके घरों तक करीब एक माह में बिजली पहुंच जाएगी।

ग्रामीणों ने बताया आजादी के बाद से अब तक अंधेरे में ही जीवन यापन करते आ रहे हैं। बिजली घरों तक नहीं पहुंचने के कारण शाम होते ही इनके जीवन में अंधेरा छा जाता है। चिमनी की रोशनी में उन्हें रात काटनी पड़ रही है। ऐसे में सालों से अंधेरे में रह रहे खेड़ी टप्पर के आदिवासी परिवारों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। रहवासियों ने बताया शाम होने से पहले ही उन्हें खाना बनाना पड़ता है। बच्चे रात के समय पढ़ाई नहीं कर पाते। कई बार राशन दुकान से अगर केरोसिन नहीं मिले तो मुश्किलें और बढ़ जाती हैं। बाजार से 50 रुपए लीटर के भाव में केरोसिन खरीदना पड़ता है। मनोरंजन के लिए टीवी नहीं देख पाते।

करताना। खेड़ी टप्पर तक बिजली पहुंचाने खंभे लगाते विद्युतकर्मी।

प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना के तहत खेड़ी टप्पर तक बिजली पहुंचाने का काम शुरू हुआ

पुरा गांव के पास खेड़ी टप्पर तक बिजली पहुंचाने का काम शुरू हो गया है। प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना के तहत काम किया जा रहा है, जो करीब एक महीने में पूरा हो जाएगा। गांव से टप्पर के बीच करीब 2 किमी तक खंभे गाड़कर लाइन डालने का काम चल रहा है। जैसे ही काम पूरा होगा, रहवासियों को बिजली की सुविधा मिल जाएगी। इसके बाद इनकी जीवन शैली ही पूरी तरह से बदल जाएगी। विद्युत लाइन पहुंचते ही सालों से अंधेरे में डूबा खेड़ी टप्पर भी रोशन हो जाएगा।

खंभे लगाए हैं

ट्रांसफार्मर लगाने के लिए दो खंभे लगाए हैं। 2 किमी लाइन बिछाने के लिए सीमेंट के पोल लगाए जा रहे हैं। खेड़ी टप्पर तक एक माह में बिजली पहुंच जाएगी। बिहारी सिंह, जेई, करताना

51 दिनों में होना है सौ फीसदी विद्युतीकरण

प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना में ग्रामीण उपभोक्ताओं को बिजली कनेक्शन दिए जाएंगे। उपभोक्ता से कनेक्शन के 500 रुपए लिए जाएंगे। यह राशि उनसे 50-50 रुपए प्रतिमाह में ली जाएगी। बिजली कंपनी के अधिकारियों को 51 दिनों में जिले में सौ फीसदी विद्युतिकरण करना है। ग्रामीण क्षेत्रों में 9 फीडर से जुड़े 492 गांवों, मजरे-टोलों के 39 हजार घरों को 31 मार्च तक जोड़ा जाएगा।

2 करोड़ में 14 गांवों में होगा फीडर सेपरेशन

उपभोक्ताओं को 24 घंटे बिजली उपलब्ध कराने के लिए फीडर सेपरेशन किया जा रहा है। हरदा, टिमरनी व खिरकिया ब्लॉक के 14 गांवों में फीडर सेपरेशन नहीं हो सका है। इसके लिए फिर से काम शुरू करना है। कंपनी को 2 करोड़ रुपए मिले हैं। वहीं सौभाग्य योजना में 39 हजार घरों को रोशन करना है, इनमें से अब तक 2500 कनेक्शन दिए जा चुके हैं। इनमें टिमरनी के 2674 व करताना के 2383 कनेक्शन शामिल हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Timarni

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×