Hindi News »Madhya Pradesh »Timarni» 400 गर्भवती गाय-भैंसों के आधार कार्ड बनाए

400 गर्भवती गाय-भैंसों के आधार कार्ड बनाए

अब तक लोगों के ही आधार कार्ड बनाए जा रहे हैं, लेकिन पशुपालन विभाग ने गाय-भैंस की पहचान के लिए उनके भी आधार कार्ड...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 26, 2018, 08:40 AM IST

अब तक लोगों के ही आधार कार्ड बनाए जा रहे हैं, लेकिन पशुपालन विभाग ने गाय-भैंस की पहचान के लिए उनके भी आधार कार्ड बनाने का काम शुरू कर दिया है। विकासखंड में अब तक 400 गाय-भैंस के आधार कार्ड बनाए गए हैं। वर्तमान समय में गर्भवती गाय-भैंस के आधार कार्ड बनाए जा रहे हैं। बाद में दूसरे मवेशियों के भी बनेंगे, जिससे कि उनकी जानकारी पशुपालन विभाग के पास स्टोर रहेगी।

विकासखंड में गाय-भैंस की जानकारी अब ऑनलाइन देख सकेंगे। इसके लिए पशुपालन विभाग द्वारा आधार कार्ड जिसे इनाफ (इंफॉरमेशन नेटवर्क फॉर एनिमल प्रोडक्टिविटी एंड हेल्थ) नाम दिया है। यह सारा काम सॉफ्टवेयर के जरिए किया जा रहा है। इसमें पशुपालन विभाग द्वारा विकासखंड के गांवों में घर-घर जाकर गाय-भैंस का रजिस्ट्रेशन किया जा रहा। जिससे गाय-भैंस पशुपालक का पूरा विवरण ऑनलाइन देख सकेंगे। क्षेत्र में यह काम करीब 20 दिनों से चल रहा है। इसमें अब तक 400 से अधिक गर्भवती गाय-भैंस के आधार कार्ड तैयार किए हैं।

तकनीकी

मवेशियों की ऑनलाइन रहेगी जानकारी, विभाग घर-घर जाकर कर रहा सर्वे

टिमरनी। गाय का आधार कार्ड बनाते पशु विभाग की टीम।

12 अंकों का यूनिक आईडी रहेगा

पशुपालन विभाग गाय-भैंसों का रजिस्ट्रेशन कर 12 अंकों की यूनिक आईडी नंबर का टैग लगा रहा है, जो पीले हैं। इसमें गाय-भैंस की नस्ल, प्रोडक्टिविटी, दूध क्षमता एवं पशुपालक का पूरा विवरण दर्ज किया जा रहा है। चयनित गाय-भैंस की सूची पशु हाट पोर्टल पर भी रहेगी। जिसमें पशुपालक का आधार नंबर, मोबाइल नंबर भी रहेगा। इससे पशुपालक गाय-भैंस की ऑनलाइन जानकारी ले सकेंगे।

इसमें मवेशी की पूरी जानकारी रहेगी

विभाग गर्भवती गाय-भैंस का गांवों में जाकर सर्वे करते हुए इनाफ बना रहा है। इसमें मवेशी की पूरी जानकारी रहेगी। डॉ. दिलीप केकरे, वरिष्ठ खंड पशु चिकित्सा अधिकारी, टिमरनी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Timarni

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×