Hindi News »Madhya Pradesh »Timarni» एनएच निर्माण के लिए पोल शिफ्टिंग के लिए 42 डिग्री में हो रही अघोषित कटौती

एनएच निर्माण के लिए पोल शिफ्टिंग के लिए 42 डिग्री में हो रही अघोषित कटौती

भास्कर संवाददाता | टिमरनी/करताना शुक्रवार को पारा 42 डिग्री पर पहुंच गया। नेशनल हाईवे के चौड़ीकरण के कारण...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 12, 2018, 05:40 AM IST

एनएच निर्माण के लिए पोल शिफ्टिंग के लिए 42 डिग्री में हो रही अघोषित कटौती
भास्कर संवाददाता | टिमरनी/करताना

शुक्रवार को पारा 42 डिग्री पर पहुंच गया। नेशनल हाईवे के चौड़ीकरण के कारण ट्रांसफार्मर और पोल शिफ्टिंग का काम चल रहा है। ऐसे में विद्युत कंपनी की अघोषित कटौती ने लोगों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। दोपहर में चल रही तेज लपट के कारण लोग घर से बाहर नहीं निकल पा रहे है। वहीं रात में हो रही बार-बार अघोषित बिजली कटौती से रहवासी परेशान हैं।

तेज धूप और गर्म हवाओं के कारण दोपहर 12 से 3 बजे के बीच निकलना मुश्किल हो रहा है। 42 डिग्री तापमान में बिजली भी झटके दे रही है। ग्रामीण गर्मी से बचने के लिए पेड़ों की छावों का सहारा ले रहे है। भीषण गर्मी के सड़कें सुनसान हो गई है। इक्का-दुक्का वाहन चालक ही मुंह पर कपडा बांधकर सड़कों पर दिखाई दे रहे हैं। लोगों ने बताया दोपहर के समय बिजली की अघोषित कटौती के कारण घर में रहना भी मुश्किल हो रहा है।

टिमरनी। बिजली कंपनी का सब स्टेशन।

कभी फाॅल्ट तो कभी टूट रहे जंफर

करताना सब स्टेशन से जुड़े हुए गांवों के ग्रामीण सबसे ज्यादा परेशान है। यहां आए दिन फॉल्ट होता रहता है, तो कभी जंफर टूटते रहते है। लो वोल्टेज के कारण कूलर-पंखे भी नहीं चल पा रहे है। बिजली की आवाजाही से उपकरण भी खराब हो रहे है। गर्मी के कारण ट्रांसफार्मर और लाइनों में तकनीकी खराबी आ रही है। जिससे बार- बार हो रही कटौती से लोग बीमार पड़ रहे है। उन्होंने समस्या के समाधान की मांग की है।

काराबार हो रहा प्रभावित

नगरीय क्षेत्र में बिजली की मनमानी कटौती की जा रही है। दिन में 4 से 5 घंटे कटौती आम बात है। जिससे व्यापारियों का कारोबार प्रभावित हो रहा है। कियोस्क सेंटर, एमपी ऑनलाइन, फोटो कॉपी और कंप्यूटर से जुड़े लोगों का कामकाज प्रभावित हो रहा है। वहीं सरकारी कार्यालयों में भी बिजली के गुल होते ही काम बंद हो जाता है। ऐसे में आवेदकों को परेशान होना पड़ रहा है।

किसान नहीं कर पा रहे मूंग में सिंचाई

क्षेत्र में बड़ी संख्या में किसानों ने तीसरी फसल के रूप में मूंग की बोवनी की है। अघोषित कटौती ने किसानों की मुश्किलें बढ़ा दी है। खेतों और गांव की लाइन अलग होने के बाद भी 10 घंटे तक बिजली नहीं मिल पा रही है। गांवों में तो यह हालत है कि 10 में से 2 से 3 घंटे ही बिजली मिल रही है। ऐसे में भीषण गर्मी में सिंचाई कर पाना मुश्किल हो रहा है। इसका असर उत्पादन पर पड़ेगा।

जल्द पूरा होगा काम

एनएच निर्माण के कारण ट्रांसफार्मरों की शिफ्टिंग का काम चल रहा है। इस कारण कटौती की जा रही है। जल्द काम पूरा होगा। एसके चंदेल, जेई, टिमरनी

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Timarni

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×