• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Timarni News
  • Timarni - साेमवार को आयोजन, उसी दिन किया मैसेज, 73 में से आई सिर्फ एक सरपंच
--Advertisement--

साेमवार को आयोजन, उसी दिन किया मैसेज, 73 में से आई सिर्फ एक सरपंच

महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा सोमवार काे राष्ट्रीय पोषण आहार कार्यक्रम का आयोजन किया। लेकिन इसमें 73 में से...

Danik Bhaskar | Sep 11, 2018, 05:20 AM IST
महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा सोमवार काे राष्ट्रीय पोषण आहार कार्यक्रम का आयोजन किया। लेकिन इसमें 73 में से सिर्फ एक महिला सरपंच ही शामिल हुई। असल में आयोजक विभाग के अफसरों ने जनपद से सरपंच, सचिव व पंचों के नाम की सूची लेकर सोमवार को ही उन्हें न्यौता दिया। सोमवार को ही सुबह 11 बजे से आयोजन था। विकासखंड के दूरस्थ गांवों से यहां तक आने के लिए पर्याप्त समय भी नहीं था। इस कारण यह कार्यक्रम रस्म अदायगी बनकर रह गया।

सोमवार को जनपद पंचायत में महिला बाल विकास परियोजना द्वारा पोषण माह के अंतर्गत पंच सरपंच सम्मेलन का आयोजन रखा था। कार्यक्रम के लिए सोमवार को ही मोबाइल से जनप्रतिनिधियों को मैसेज भेजे गए। इस कारण 72 सरपंच, उप सरपंच व पंच नहीं आ सके। सम्मेलन में ग्राम पंचायत नांदवा की एकमात्र महिला सरपंच फूलवती बाई ही शामिल हुई। सोडलपुर, नजरपुरा, टेमरुबहार, बोरी, पानतलाई, झाड़बीड़ा आदि पंचायतों के पंच सरपंचों ने बताया कि सामान्य तौर पर इस तरह के मैसेज के जरिए बैठकों या सम्मेलन की सूचनाएं कम ही आती हैं। और वैसे भी सोमवार को आयोजन था,उसी दिन मैसेज किया गया। इस कारण कई लोग चाहकर भी नहीं आ सके।

1 से 30 सितंबर तक आयोजित होने वाले सुपोषण माह को जनांदोलन का रूप दिया जाना है। इसलिए ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छता और पोषण पर जागरूकता लाने के लिए यह कार्यक्रम आयोजित किया था। जनप्रतिनिधियों के माध्यम से अपने-अपने क्षेत्रों में जागरूकता के लिए यह प्रयास था। लेकिन समय पर सूचना नहीं देने व जनपद तथा महिला बाल विकास विभाग के बीच तालमेल नहीं होने से आयोजन असफल हो गया।

टिमरनी। सम्मेलन में पंच, सरपंचों से अधिकारी सरकारी कर्मचारी रहे शामिल।

मात्र विभाग के कर्मचारी रहे शामिल

जपं में हुए सम्मेलन में ब्लॉक के पंच सरपंच नहीं आए। सिर्फ विभाग के कर्मचारी जरूर नजर आए। इनमें आंगनबाड़ी पर्यवेक्षक और संख्या के मान से आंगनबाड़ी की कार्यकर्ता, सहायिकाओं को बुला लिया गया था। पोषण माह के संबंध वे आपस में चर्चा करते रहे। सभापति महिला बाल विकास समिति विजय पवार, जपं सदस्य मनोज मालवीय, परियोजना अधिकारी संयोगिता राजपूत मौजूद रही।

ब्लॉक में 122 अतिकुपोषित बच्चे

ब्लॉक में कुपोषण की स्थिति के बारे में विभाग से दी गई जानकारी के अनुसार जुलाई 2018 तक की स्थिति में 122 बच्चे अतिकुपोषित की श्रेणी में हैं। इनमें सामान्य 13539 बच्चे हैं। आंगनबाड़ियों में कुल दर्ज संख्या 15143 है।

सूचना मोबाइल पर दी थी