Hindi News »Madhya Pradesh »Ujjain» जिम्मेदारों की अनदेखी के चलते बेलगाम हो रहा रेत का अवैध कारोबार

जिम्मेदारों की अनदेखी के चलते बेलगाम हो रहा रेत का अवैध कारोबार

भास्कर संवाददाता | गुलाना लगभग लुट चुकी कालीसिंध नदी में थोड़े-बहुत बचे काले सोने को लूटने के लिए रेत...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 02, 2018, 04:10 AM IST

जिम्मेदारों की अनदेखी के चलते बेलगाम हो रहा रेत का अवैध कारोबार
भास्कर संवाददाता | गुलाना

लगभग लुट चुकी कालीसिंध नदी में थोड़े-बहुत बचे काले सोने को लूटने के लिए रेत कारोबारियों में होड़ मची है। नदी की संरचना की सुरक्षा के लिए सरकार द्वारा बनाए गए नियम कायदों को जेसीबी से ध्वस्त कर नदी के अंदर खुद के नियम लागू कर नदी का सीना छलनी करने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ रहे हैं। अवैध तरीके से नदी से निकाली जा रही रेत की कमाई लूटकर दबंग रेत माफिया शासन प्रशासन को खुलेआम ठेंगा दिखा रहे हैं।

क्षेत्र की जीवनदायिनी कालीसिंध नदी में निपानिया से कबूलपुर के बीच चुनिंदा वैधानिक तौर पर रजिस्टर्ड खदानों के अलावा चौंसला मुसलमान, दास्ताखेड़ी एवं जोरापुर के साथ दर्जनभर से भी ज्यादा अवैध खदानों को रेत के दलालों ने कमाई का जरिया बना रखा है। जानकारी के अनुसार चौंसला मुसलमान की खदान खनिज विभाग में खदान के नाम से रजिस्टर्ड ही नहीं है। फिर भी इन दिनों रेत माफिया द्वारा यहां से बड़े पैमाने पर रेत निकाली जा रही है। हालांकि ऐसा भी नहीं है कि जिम्मेदारों को अवैध तरीके से नदी के अंदर से रेत निकाल रहे इन माफिया की कोई जानकारी नहीं है। सरकार के रेत अधिनियम 2017 के अनुसार रेत खदानें संबंधित क्षेत्र की ग्राम पंचायतों के हवाले कर दी हैं। इसके आदेश भी जारी कर दिए गए, लेकिन रायल्टी एप नहीं मिलने के कारण अभी तक पंचायतों ने रेत खनन प्रारंभ नहीं किया। खदानों को लेकर समस्त अधिकार भी सरकार ने खनिज विभाग से छीनकर जनपद एवं जिला पंचायत को दे दिए हैं। नियमों के अदला-बदली का फायदा इन दिनों रेत माफिया खूब उठा रहे हैं। ऐसे में अब इन पर कार्रवाई कौन करेगा, यह भी तय नहीं है।नदी के अंदर कई जगह जेसीबी व पोकलेन से खोदकर मौत के घाट बना दिए हैं। पिछले वर्ष बारिश भी ज्यादा नहीं होने के कारण नदी में पुर भी नहीं आ पाई थी। नतीजतन नदी में नई रेत कम है, लेकिन रेत कारोबारी इस पर भी नहीं रुके और नदी की कराड़े खोदकर रेत निकालने का रास्ता ढूंढ निकला। दास्ताखेड़ी में कई मीटर तक की नदी की दोनों साइड की कराड़े जेसीबी से खोदकर रेत कारोबारियों ने नदी की भौगोलिक संरचना को बेतरतीब कर दिया।

चौंसला मुसलमान की अवैध रेत खदान से रेत निकालते रेत माफिया।

कार्रवाई का अधिकार अब जनपद व जिपं को

सरकार के रेत अधिनियम 2017 के अंतर्गत बनी योजना के तहत रेत खदानों को लेकर समस्त अधिकार जनपद व जिला पंचायत को दे दिए हैं। अवैध रेत खनन पर कार्रवाई करने का अब उन्हें अधिकार है। मेजरसिंह जमरा, जिला खनिज अधिकारी

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Madhya Pradesh News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: जिम्मेदारों की अनदेखी के चलते बेलगाम हो रहा रेत का अवैध कारोबार
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Ujjain

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×