• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Ujjain
  • वैचारिक क्रांति आज के युग की सबसे बड़ी आवश्यकता-आर्य
--Advertisement--

वैचारिक क्रांति आज के युग की सबसे बड़ी आवश्यकता-आर्य

वैचारिक क्रांति आज के युग की सबसे बड़ी आवश्यकता-आर्य कानड़ | नगर के नए बस स्टैंड पर चल रही पांच दिवसीय भागवत...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 04:55 AM IST
वैचारिक क्रांति आज के युग की सबसे बड़ी आवश्यकता-आर्य

कानड़ |
नगर के नए बस स्टैंड पर चल रही पांच दिवसीय भागवत वेद कथा के समापन पर बुधवार को कथाकार अंजलि आर्य ने कहा वैचारिक क्रांति आज के दौर की सबसे बड़ी आवश्यकता है।व्यक्ति, समाज और राष्ट्र में परिवर्तन लाना है तो अच्छे विचार और संस्कारों को बढ़ावा देना होगा। वैदिक आंदोलन पर प्रकाश डालते हुए संत आर्य ने कहा कि महर्षि दयानंद सरस्वती का विचार क्रांति अभियान चलाकर बहुत बड़ा समाज सुधार का कार्य किया था। मातृशक्ति की ताकत को रेखांकित करते हुए संत आर्य ने कहा कि माता-पिता अपनी शक्ति पहचाने वह संस्कारित संतानों का निर्माण कर सबसे बड़ा योगदान दे सकती है। अपना आत्म विश्लेषण कर बुराइयों का त्याग करते रहे।समापन अवसर पर आयोजन समिति के प्रमुख मोहन लाल आर्य, कन्हैयालाल परमार, वीरेंद्र सिंह ठाकुर, पार्षद कालू सिंह बीजापारी, मनोहरलाल शर्मा, मनोज गुप्ता, भाजपा नेता ठाकुर केशव सिंह दरबार, तूफान सिंह, गोपाल बीजापारी, दिनेश आदि ने संत अंजली आर्य का शाल श्रीफल व पुष्पहार से स्वागत किया। इसके पूर्व यज्ञ हवन किया गया। आयोजन समिति के प्रमुख कांशीराम आर्य अनल ने आभार व्यक्त किया ।