• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Ujjain
  • 5वीं-7वीं के बच्चों से दिला रहे थे 8वीं की परीक्षा हाथ में गाइड और बोर्ड पर हर सवाल का जवाब
--Advertisement--

5वीं-7वीं के बच्चों से दिला रहे थे 8वीं की परीक्षा हाथ में गाइड और बोर्ड पर हर सवाल का जवाब

मालनवासा में परीक्षा में मिली गड़बड़ी के बाद पंचनामा बनाते जांच दल। टीम देख बोर्ड पर लिखे उत्तर मिटाने लगे...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 05:35 AM IST
मालनवासा में परीक्षा में मिली गड़बड़ी के बाद पंचनामा बनाते जांच दल।

टीम देख बोर्ड पर लिखे उत्तर मिटाने लगे शिक्षक

सुबह 8 से 11 बजे तक आयोजित की गई इस परीक्षा में पर्यवेक्षक द्वारा ही बोर्ड पर प्रश्न क्रमांक 8 का उत्तर लिखवाया जा रहा था। टीम पहुंची तो शिक्षक ने आधे से ज्यादा उत्तर मिटा दिया। माैके पर ही शिक्षा विभाग के दल ने मालनवासा के माध्यमिक स्कूल के परीक्षा केंद्र का निरीक्षण किया अौर फर्जी बच्चों की कॉपियां जब्त की। बीएसी मुकेश सोनी, रोशन बेग, शरद परमार और जनशिक्षक प्रहलाद अहिरवार ने पंचनामा बनाकर प्रतिवेदन बीईओ को सौंपा। यहां 5वीं और 7वीं के छात्र दिलीप पिता पीरूसिंह, ईश्वर पिता नारायण और छात्रा भावना पिता पीरूसिंह, साधना पिता कनीराम कक्षा8 वीं का पर्चा हल कर रहे थे।

सालों से जमे हैं शिक्षक, सेटिंग से कर रहे थे खेल

क्षेत्र की राजस्थान से जुड़ी सीमा और सौंधवाड़ बाहुल्य मालनवासा, मेहतपुर, शत्रुखेड़ी, सालरिया, सारसी, श्यामपुरा, पटपड़ा सहित कई अन्य गावों में संचालित शासकीय स्कूलों के शिक्षक सालों से जमे हुए हैं। शिक्षा के हिसाब से पिछड़े इस क्षेत्र में खेती पर ही सबकुछ निर्भर है। कुछ स्कूलों में तो 20-20 साल से शिक्षक जमे हुए हैं। पुराने होने के कारण इन शिक्षकों के अच्छे संबंध ग्रामीणों से हैं। शिक्षा का अधिकार अधिनियम के तहत 8वीं तक के बच्चों काे फेल नहीं किया जा सकता। आशंका जताई जा रही है कि मालनवासा में बच्चों को पास कराने की सेटिंग की गई थी। तभी बच्चे परीक्षा देने भी नहीं पहुंचे और उनकी जगह दूसरे बच्चों को बैठा लिया गया। इन कॉपियों पर रोल नंबर नहीं लिखे थे, जो कॉपी जमा करने के दौरान लिखे जाते।

मेहतपुर में परीक्षा देने वाले 5 बच्चे इन गाइड से नकल कर रहे थे।

प्रतिवेदन डीईओ को भेजे गए है वे करेंगे कार्रवाई


निलंबन का प्रस्ताव भेजा

फर्जी परीक्षार्थी बैठाने के मामले में विकासखंड शिक्षा अधिकारी ने मालनवासा के केंद्राध्यक्ष सुजानसिंह कटारा और पर्यवेक्षक मनोहरलाल मेहर को निलंबित करने का प्रस्ताव तथा मेहतपुर में नकल के मामले में केंद्राध्यक्ष बालूसिंह कनेड़ी और पर्यवेक्षक काशीराम मेहर की दो-दो वेतनवृद्धि रोके जाने का पत्र जिला शिक्षा अधिकारी आगर को बुधवार की शाम को भेज दिया है।