• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Ujjain
  • उमाकांत महाराज ने दूल्हा दुल्हन को पहनाई मालाएं
--Advertisement--

उमाकांत महाराज ने दूल्हा दुल्हन को पहनाई मालाएं

पिंग्लेश्वर स्थित आश्रम पर विवाह समारोह के दौरान आशीर्वाद देते उमाकांत महाराज। भास्कर संवाददाता | उज्जैन ...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 07:40 AM IST
पिंग्लेश्वर स्थित आश्रम पर विवाह समारोह के दौरान आशीर्वाद देते उमाकांत महाराज।

भास्कर संवाददाता | उज्जैन

मक्सीरोड पिंगलेश्वर स्थित बाबा जयगुरुदेव आश्रम के पंडाल में होली के अवसर पर बुधवार को देशभर से उमड़े 25 हजार लोगों की मौजूदगी में सामाजिक संदेश देने के लिए तीन राज्यों से आए युवक-युवतियों की बिना दहेज के दो शादियां कराई गई। बाबा जयगुरुदेव के उत्तराधिकारी बाबा उमाकांत महाराज ने पंडाल में आकर दोनों दूल्हा-दुल्हनों को माला पहनाकर आशीर्वाद दिया। शाम 6 बजे बाद पंडाल में उत्तरप्रदेश के महोबा के रहने वाली मालतीदेवी का वहीं के सत्यप्रकाश से विवाह कराया। दिल्ली की कामिनी धामा का विवाह रोहतक के प्रवीण नांदल से हुआ। खास बात यह थी कि दोनों दुल्हा-दुल्हनों में महोबा के रहने वाले गरीब और इधर दिल्ली-रोहतक के धनाढ्य परिवार सभी एक पंडाल में एक साथ विवाह की रस्म की। आश्रम के पंडित राकेश ने फेरे कराए लेकिन देहज का लेनदेन नहीं किया। दूल्हा-दुल्हन व उनके परिजनों से किसी प्रकार का खर्च भी नहीं लिया। आश्रम ने ही शादी संपन्न कराई। सुबह 5 बजे के सत्र में पंडाल में तीन दिनी होली और दिल मिलन सत्संग की शुरुआत करते हुए बाबा उमाकांत महाराज ने कहा मानव शरीर अनमोल है। 84 लाख योनियों में कई जीवों के शरीर में कष्ट भोगने के बाद यह शरीर मिलता है लेकिन हम इसे मांस खाकर गंदा कर रहे हैं। गुरुदेव ने लोगों से शाकाहार अपनाने का आह्वान किया। बाबा ने जनकल्याण और जीवों पर दया करने का संदेश दिया। मीडिया प्रमुख विशंभरनाथ तिवारी ने बताया पहले दिन 25 हजार अनुयायी आश्रम में उमड़ चुके हैं। हजारों लोगों को बाबा ने नामदान की दीक्षा भी दी। 50 भंडारे चल रहे हैं। 1 व 2 मार्च को भी सुबह 5 व शाम 4 बजे से सत्संग होगा।

सेवादार ने किया आयुर्वेद विभाग का उद्घाटन

आश्रम में जनसेवा के लिए रोगांतक संस्थान अस्पताल बनाया गया है, जहां मुफ्त इलाज की सुविधा मिलेगी। बाबा ने इसका उद्घाटन खुद न करते हुए हजारों अनुयायियों की भीड़ में आश्रम में कई सालों से रहकर सेवा कर रहे बिहार के बबलू शर्मा मिस्त्री के हाथों करवाया। आश्रम में भारत के कई राज्यों सहित अमेरिका, नेपाल से भी भक्त यहां होली मनाने पहुंचे हैं।