• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Ujjain
  • फर्जी नियुक्ति छिपाने के लिए नहीं दी आरटीआई में जानकारी, महिला अधिकारी से छीना चार्ज
--Advertisement--

फर्जी नियुक्ति छिपाने के लिए नहीं दी आरटीआई में जानकारी, महिला अधिकारी से छीना चार्ज

कार्रवाई होने पर अधिकारी ने पत्रकार पर शासकीय कार्य में बाधा डालने का आरोप लगाते हुए पुलिस को दिया आवेदन भास्कर...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 06:15 AM IST
कार्रवाई होने पर अधिकारी ने पत्रकार पर शासकीय कार्य में बाधा डालने का आरोप लगाते हुए पुलिस को दिया आवेदन

भास्कर संवाददाता | सारंगपुर

हमेशा चर्चा में रही महिला बाल विकास परियोजना अधिकारी सारंगपुर को विभाग की जानकारी नहीं देना महंगा पड़ा। अधिकारी योगिता बैरागी ने पूर्व में एक आंगनवाड़ी कार्यकर्ता की फर्जी नियुक्ति कर दी थी। इसी मामले की खबर बनाने के उद्देश्य से ग्राम पड़ाना के पत्रकार कैलाश टेलर ने आरटीआई के तहत जानकारी मांगी थी, लेकिन उक्त अधिकारी ने जानकारी देना, तो दूर पत्रकार पर ही शासकीय कार्य में बाधा डालने का आवेदन पुलिस थाने में दे दिया। मामले की शिकायत महिला बाल विकास अधिकारी चंद्र सेना भिंडे से की गई। इसकी जांच करते हुए उन्होंने फर्जी नियुक्त महिला हेमलता पिता रोडमल मालवीय के सभी दस्तावेज जांचने पर मामला सही पाया। आंगनवाड़ी कार्यकर्ता हेमलता तथा सारंगपुर महिला बाल विकास अधिकारी योगिता बैरागी को कारण बताओ नोटिस के साथ पद से हटाकर चार्ज अखिलेश पाटीदार को दिया।

घटना के बाद सारंगपुर महिला बाल विकास अधिकारी योगिता बैरागी ने सूचना के अधिकार के तहत जानकारी लेने वाले पत्रकार कैलाश टेलर के खिलाफ सारंगपुर पुलिस थाने में अभद्र व्यवहार तथा शासकीय कार्य में बाधा पहुंचाने की शिकायत कर दी। सारंगपुर की उक्त अधिकारी की रिपोर्ट पर पत्रकार ओम पुष्पद, नवीन रुंडवाल, कैलाश शर्मा, अनिल सोनी, राजेश बंसल, सलमान अली, अमित दुबे, इफ्तखार अंसारी आदि ने एक अन्य आवेदन देकर पुलिस तथा वरिष्ठ अधिकारियों से घटना की निष्पक्ष जांच कराने की मांग की। इधर जिला परियोजना अधिकारी चंद्रसेना भिंडे ने बताया फर्जी नियुक्ति की शिकायत मिलने पर जांच की गई। जांच सही पाई जाने पर फर्जी नियुक्त हेमलता तथा सारंगपुर महिला बल विकास अधिकारी योगिता बैरागी को कारण बताओ नोटिस दिया गया। साथ ही योगिता बैरागी की जगह चार्ज अखिलेश पाटीदार को दे दिया है।