• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Ujjain
  • कॉलेज प्रबंधकों की बैठक में कम करेंगे रिकवरी राशि
--Advertisement--

कॉलेज प्रबंधकों की बैठक में कम करेंगे रिकवरी राशि

विक्रम विश्वविद्यालय में कॉलेजों की ऑडिट में हुई गड़बड़ी उजागर होने के बाद अब विश्वविद्यालय प्रशासन उन सभी कॉलेज...

Danik Bhaskar | Apr 17, 2018, 05:05 AM IST
विक्रम विश्वविद्यालय में कॉलेजों की ऑडिट में हुई गड़बड़ी उजागर होने के बाद अब विश्वविद्यालय प्रशासन उन सभी कॉलेज प्रबंधकों के साथ बैठक करेगा, जिनके नाम ऑडिट में निकली रिकवरी लिस्ट में शामिल हैं। इन कॉलेजों की ओर से संबद्धता शुल्क जमा करने संबंधी दस्तावेजों का परीक्षण किया जाएगा आैर अंतर की राशि का समायोजन करते हुए वास्तविक रिकवरी की राशि की गणना की जाएगी। इसके साथ ही विश्वविद्यालय प्रशासन ने यह भी साफ कर दिया है कि अगर इसके बाद भी किसी कॉलेज पर 5 लाख रुपए की राशि की रिकवरी निकलती है आैर कॉलेज द्वारा यह राशि जमा नहीं करवाई जाती है तो फिर उस कॉलेज के परीक्षाओं के परिणाम घोषित नहीं किए जाएंगे। विश्वविद्यालय में बाह्य संपरीक्षण के अंतर्गत इंदौर की एक सीए फर्म के चार्टर्ड एकाउंटेंट्स ने कॉलेजों के दस्तावेजों का ऑडिट करने के बाद एक रिपोर्ट विश्वविद्यालय प्रशासन को दी। फर्म ने 189 कॉलेजों का ऑडिट किया, जिसमें से 172 कॉलेजों पर 8 करोड़ 27 लाख 88 हजार 895 रुपए की रिकवरी निकालते हुए इसकी लिस्ट भी विश्वविद्यालय को सौंपी। रिकवरी की यह राशि संबद्धता शुल्क की है, जबकि कॉलेज प्रबंधकों का कहना है कि ऑडिट गलत हुआ क्योंकि वह संबद्धता शुल्क की राशि नियमित जमा करवाते आ रहे हैं। विरोध में 9 कॉलेज प्रबंधक कोर्ट चले गए। कोर्ट जाने के बाद ताबड़तोड़ उन 9 कॉलेजों की बैठक कर दस्तावेजों का मिलान करवाया तो राशि आधी से भी कम हो गई। कुलसचिव डॉ. परीक्षित सिंह ने बताया 20 अप्रैल से अन्य कॉलेजों के साथ भी विवि के अधिकारियों की बैठक बुलाई जा रही है।

विशेषज्ञों ने कहा- कम जोखिम वाले सही निवेश का चयन करें

उज्जैन | विक्रम विश्वविद्यालय शिक्षक संघ द्वारा आदित्य बिड़ला कैपिटल के सहयोग से होटल सुराना पैलेस में कार्यशाला रखी गई। कार्यशाला में इंदौर से आए विशेषज्ञ अंशुल जैन एवं हिमांशु चौबे ने पॉवर पाइंट प्रजेंटेशन के जरिए निवेश से जुड़ी जानकारियां दी। बताया निवेश के कई विकल्प हो सकते हैं लेकिन उसका चयन करते समय गंभीरता रखें। कार्यक्रम में शिक्षक संघ अध्यक्ष डॉ. कनिया मेडा एवं डॉ. निश्छल यादव सहित अन्य पदाधिकारियों का सम्मान किया गया। वैभव बंसल एवं यतीश बोहरा ने इन्हें स्मृति चिन्ह भेंट किए। संचालन राकेश जैन ने किया।

5 लाख रुपए से अधिक संबद्धता शुल्क की रिकवरी निकलने पर घोषित नहीं होगा रिजल्ट

भास्कर ने किया था खुलासा

13 अप्रैल को भास्कर में प्रकाशित खबर।