• Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Ujjain
  • गाइड लाइन का नया नियम लागू होने के छह दिन बाद भी तय नहीं उपसमितियों की बैठक
--Advertisement--

गाइड लाइन का नया नियम लागू होने के छह दिन बाद भी तय नहीं उपसमितियों की बैठक

नौ माह के लिए ही बन पाएगी गाइड लाइन भास्कर संवाददाता | उज्जैन कलेक्टर गाइड लाइन का नया नियम लागू होने के छह दिन...

Dainik Bhaskar

Apr 17, 2018, 05:10 AM IST
नौ माह के लिए ही बन पाएगी गाइड लाइन

भास्कर संवाददाता | उज्जैन

कलेक्टर गाइड लाइन का नया नियम लागू होने के छह दिन बाद भी यह तय नहीं हो पाया है कि उपसमितियों की बैठक कब होगी। गाइड लाइन के प्रस्ताव कब तैयार होंगे और जिला मूल्यांकन समिति के समक्ष कब तक रखा जाएगा। पंजीयन विभाग मुख्यालय से टाइम टेबल आने के इंतजार में है। ऐसे ही हाल रहे तो वर्ष 2018 की गाइड लाइन केवल नौ माह के लिए ही बन पाएगी।

कलेक्टर गाइड लाइन के लिए नोटिफिकेशन हो गया है तथा 11 अप्रैल को नया नियम लागू हो गया है। नोटिफिकेशन में बाजार मूल्य मार्गदर्शन सिद्धांत 2018 से पुराने नियम 47 (क) को अलग कर दिया है। नया नियम लागू हुए छह दिन के बाद भी यह तय नहीं हुआ है कि कब से उप मूल्यांकन समितियों की बैठक होगी। विभाग के अधिकारी कह रहे हैं कि अभी तो नियम लागू हुआ है, आगे क्या करना है, इस बारे में मुख्यालय से निर्देश नहीं आए हैं। 1 मई तक गाइड लाइन लागू नहीं हो पाएगी। जून तक या उसके बाद गाइड लाइन लागू होती है तो यह केवल नौ माह के लिए ही रहेगी। वरिष्ठ जिला पंजीयक मंजूलता पटेल का कहना है बाजार मूल्य मार्गदर्शक सिद्धांत 2018 का नोटिफिकेशन हो गया है। अब प्रस्ताव तथा जिला मूल्यांकन समिति की बैठक का टाइम टेबल आएगा। उसके बाद उपसमितियों की बैठक कर प्रस्ताव तैयार कराएंगे।

प्राॅपर्टी धारकों को एक और मौका

जून में नई गाइड लाइन बढ़ती है तो लोगों के लिए पुरानी गाइड लाइन पर रजिस्ट्री करवाने का एक और मौका है। उन्हें डेढ़ माह का समय मिल रहा है। इस अवधि में वे पुरानी गाइड लाइन के अनुसार रजिस्ट्री करवा सकते हैं।

नियम नया पर गाइड

लाइन की प्रक्रिया पुरानी

नियम भले ही नया है लेकिन गाइड लाइन तैयार करने की प्रक्रिया पूर्व की तरह ही रहेगी। जिसमें उपसमितियों की बैठक होगी तथा नए प्रस्ताव तैयार किए जाएंगे। उसके बाद जिला मूल्यांकन समिति की बैठक होगी। समिति की स्वीकृति के बाद केंद्रीय मूल्यांकन समिति के पास में प्रस्ताव भेजे जाएंगे। जहां से प्रकाशन कर दावे-आपत्तियां बुलाई जाएगी। संशोधन के बाद नई गाइड लाइन लागू कर दी जाएगी।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..