--Advertisement--

प्राकृतिक आपदा में फसलों को नुकसान तो मुआवजा दोगुना

सम्मेलन को संबोधित करते शिवराजसिंह चौहान। कांग्रेस पर आरोप- प्रदेश में हिंसा फैलाई, बैंकों में कैश की किल्लत भी...

Dainik Bhaskar

Apr 17, 2018, 05:10 AM IST
प्राकृतिक आपदा में फसलों को नुकसान तो मुआवजा दोगुना
सम्मेलन को संबोधित करते शिवराजसिंह चौहान।

कांग्रेस पर आरोप- प्रदेश में हिंसा फैलाई, बैंकों में कैश की किल्लत भी इन्हीं के कारण

भास्कर संवाददाता | शाजापुर

किसान समृद्धि योजना का शुभारंभ करने सोमवार को शाजापुर आए मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने किसानों को रिझाने के लिए 5 घोषणाएं की। प्याज पर हुए बवाल की शुरुआत शाजापुर जिले से ही हुई थी। यहीं पर उन्होंने सौगातें देते हुए कहा प्राकृतिक आपदा में राहत राशि दोगुना मिलेगी। लहसुन सस्ती बिकने पर भी भावांतर की राशि पूरी दी जाएगी। चना, सरसो और मसूर का समर्थन मूल्य तय कर 100 रुपए प्रति क्विंटल बोनस देने का भी वादा सीएम ने किया। इसके अलावा किसानों की उपज विदेश तक अच्छी कीमत में पहुंचाने के लिए जल्द ही एक समिति बनाने की घोषणा भी की है। शेष|पेज 9 पर



प्राकृतिक आपदा में फसलों को नुकसान तो मुआवजा दोगुना

इसके साथ कांग्रेस पर प्रदेशभर में हिंसा फैलाने और बैंकों में कैश संकट पैदा करने का आरोप लगाया। शेष|पेज 11 पर



सिंचाई का रकबा बढ़ाएंगे

मुख्यमंत्री दोपहर 12.50 बजे शाजापुर पहुंचे और 2 बजे रवाना हो गए। करीब 58 मिनट तक उन्होंने सभा को संबोधित किया। उन्होंने कहा खेती को लाभ का धंधा बनाने के लिए हर संभव प्रयास किए जाएंगे। सिंचाई का रकबा 7.50 लाख हेक्टेयर से बढ़ाकर 40 लाख हेक्टेयर कर दिया है। अब इसे 2.50 लाख हेक्टेयर करना है। इसके लिए शुरुआत कर दी है। नर्मदा-कालीसिंध लिंक परियोजना से देवास, शाजापुर, उज्जैन, राजगढ़ सहित आगर-मालवा में पानी ही पानी हो जाएगा।

कांग्रेस पर आरोप, दो-दो हजार की गड्डी गायब कर कैश का संकट पैदा किया जा रहा है

मुख्यमंत्री ने खुले मंच से कांग्रेसियों पर प्रदेश में हिंसा फैलाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कांग्रेस मध्यप्रदेश में आग लगाना चाहती है। छोटी बातों को तूल देकर हिंसा भड़काने का काम कर रहे हैं कांग्रेसी। कांग्रेस लाशों पर राजनीति कर रही है। सीएम ने हाल ही में सामने आ रही कैश की कमी का जिम्मेदार भी कांग्रेसियों को बताया। कहा कि प्रदेश में प्रर्याप्त नोट हैं, लेकिन 2-2 हजार रुपए के नोट की गड्डी गायब कर प्रदेश में कृत्रिम रूप से कैश की कमी पैदा की जा रही है।

किसानों को खुश करने के लिए की ये पांच घोषणाएं

1. मुआवजा

अब : प्राकृतिक आपदा के कारण फसलें खराब होने पर 30 हजार रुपए प्रति हेक्टेयर राहत राशि दी जाएगी, ताकि किसानों को नुकसान के मुताबिक मुआवजा मिल सके।

पहले : 15 हजार रुपए प्रति हेक्टेयर के हिसाब से मिलता था मुआवजा।

2. भावांतर

अब : लहसुन के लिए तय किया है कि 1600 रुपए प्रति क्विंटल से कम कीमत पर बिकने पर भी भावांतर राशि के रूप में किसानों काे 800 रुपए प्रति क्विंटल के हिसाब से राशि मिलेगी।

पहले : 1600 रुपए से कम भाव मिलने पर लहसुन की क्वालिटी खराब मानी जाती थी, इसलिए भावांतर में शामिल नहीं होती थी।

3. समर्थन मूल्य

अब : गेहूं कोई समर्थन मूल्य 1735 रुपए से भी ज्यादा कीमत पर व्यापारी को बेचता है तो भी 265 रुपए प्रति क्विंटल बोनस मिलेगा।

पहले : समर्थन मूल्य 1625

4. बोनस : घोषणा इसी साल

अब : चना का समर्थन मूल्य 4400, मसूर 4250 और सरसों 4 हजार रुपए कीमत पर सरकार ही खरीदेगी। 100 रुपए अलग से बोनस देंगे।

5. इम्पोर्ट-एक्सपोर्ट

किसानों की उपज को विदेश तक पहुंचाएंगे, ताकि उन्हें और ज्यादा कीमत मिल सके। इसके लिए इम्पोर्ट-एक्सपोर्ट की तैयारी है। जल्द ही विशेषज्ञों की बैठक बुलाकर एक समिति बनाई जाएगी।

हर बार आए और दे गए किसानों को सौगातें

शाजापुर-12 जुलाई 2017 शुजालपुर और अकोदिया आगमन के दौरान सीएम ने किसानों के लिए कई घोषणाएं की।

उज्जैन- 22 नवंबर 2017 को भावांतर राशि किसानों के खाते में डालने की शुरुआत करने नानाखेड़ा स्टेडियम में आयोजित किसान सम्मेलन में आए।

मंदसौर- 14 जून 2017 को आंदोलन में मृत किसानों के परिजनों से मिलने पहुंचे। 1 नवंबर 2017 को गरोठ में नहर परियोजना का शुभारंभ करने आए। 20 जनवरी2018 को दलोदा में किसान सम्मेलन में आए।

नीमच- 28 मार्च 2018 को नीमच में किसान सम्मेलन में भागीदारी की।

देवास- टोंकखुर्द में 15 फरवरी 2018 किसान सम्मेलन में भाग लिया।

रतलाम- किसानों के लिए किसी कार्यक्रम में नहीं आए।

X
प्राकृतिक आपदा में फसलों को नुकसान तो मुआवजा दोगुना
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..