Hindi News »Madhya Pradesh »Ujjain» वार्डों में अवैध कनेक्शन से चल रहे ट्यूबवेल, बिजली कंपनी ने भेजा 35 लाख का बिल, निगमायुक्त ने पार्षदों से कहा- अपनी निधि से भरों

वार्डों में अवैध कनेक्शन से चल रहे ट्यूबवेल, बिजली कंपनी ने भेजा 35 लाख का बिल, निगमायुक्त ने पार्षदों से कहा- अपनी निधि से भरों

वार्डों में नागरिकों को पानी उपलब्ध कराने के लिए ट्यूबवेल पर लगाई मोटरें अवैध बिजली कनेक्शन से चल रही हैं। बिजली...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 02, 2018, 05:35 AM IST

वार्डों में अवैध कनेक्शन से चल रहे ट्यूबवेल, बिजली कंपनी ने भेजा 35 लाख का बिल, निगमायुक्त ने पार्षदों से कहा- अपनी निधि से भरों
वार्डों में नागरिकों को पानी उपलब्ध कराने के लिए ट्यूबवेल पर लगाई मोटरें अवैध बिजली कनेक्शन से चल रही हैं। बिजली कंपनी ने इनका सर्वे कर नगर निगम को 35 लाख रु. का बिल थमा दिया है। निगमायुक्त ने इस बिजली बिल की राशि पार्षद मद से अदा करने के लिए उन पार्षदों को पत्र भेजा है जिनके क्षेत्र में बिजली कंपनी ने अवैध कनेक्शन पाए हैं। निगम आयुक्त के इस पत्र के बाद विवाद खड़ा हो गया। एक ओर जहां महापौर ने इसे निगम परिषद के स्तर का मामला बताया। वहीं विपक्ष ने पत्र की भाषा पर आपत्ति ली।

शहर में पार्षदों ने अपने मद से ट्यूबवेल खुदवाए हैं। उन पर मोटरें लगाई हैं। इन मोटरों से पाइप लाइन जोड़कर नागरिकों को पानी उपलब्ध कराया जाता है। बिजली कंपनी द्वारा निगम को भेजे गए बिल से इस बात का खुलासा हुआ है कि इन सभी ट्यूबवेल के लिए अवैध रूप से बिजली का उपयोग किया जा रहा है। बिल आने के बाद निगमायुक्त डॉ. विजयकुमार जे ने पार्षदों को पत्र भेजा है। पत्र में कहा गया है कि बिजली कंपनी ने इसे गंभीरता से लेकर कठोर कार्रवाई और चालान की चेतावनी दी है। इसलिए बिजली कंपनी से विधिवत कनेक्शन लेकर उसका बिल भुगतान आप अपने मद से करें।

इसलिए निगम सख्त

यह मोटरें 24 घंटे चलाई जाती हैं। इसके बदले उन्हें कोई शुल्क नहीं चुकाना पड़ता, जबकि वैध नल कनेक्शन वालों को 120 रु. महीना देना पड़ता है, बावजूद उन्हें एक दिन छोड़कर पानी मिलता है। लोग पीएचई के कनेक्शन नहीं ले रहे, वहीं निगम को बिजली और नलकूप के रखरखाव का खर्च भी वहन करना पड़ रहा है।

एक हॉर्स पॉवर की मोटर का दो हजार रु. महीना बिल

अनुमान है कि एक हार्स पॉवर वाली मोटर का एक महीने का बिजली बिल दो हजार रु. आता है। हर पार्षद ने 2 से 5 मोटरें लगा रखी है। इस हिसाब से उनसे बिजली बिल की राशि ली जाएगी। यह राशि आने पर मोटर के कनेक्शन को वैध कराया जाएगा।

इन्होंने बनाई नागरिकों की जल उपयोग समिति

भाजपा पार्षद दल की उपनेता राजश्री जोशी ने अपने वार्ड में एक नलकूप पर मोटर लगाने की तैयारी की है। उन्होंने इसके लिए नागरिकों की समिति बनाई है जो समय पर मोटर चालू और बंद करेगी। बिजली खर्च की राशि सदस्यों से लेगी।

शहर में 70 से 180 फीट वाटर लेवल

पीएचई रिकार्ड के अनुसार औसत 30 फीट की गिरावट आई है। फ्रीगंज में 90, देवासरोड पर 170, आगररोड पर 110, मक्सीरोड पर 180, इंदौर रोड पर 70, भैरवगढ़ पर वॉटर लेवल 150 फीट है। शहर में वाटर लेवल के कारण एक भी हैंडपंप बंद नहीं हुआ।

नलकूपों में मोटर लगाकर पाइप लाइन से पानी दे रहे हैं।

257 मोटरें लगी

शहर में अब तक 257 नलकूपों में मोटरें लग चुकी हैं। 60 में लगना है। बिजली बिल आने के बाद पीएचई ने अभी यह काम रोक दिया है। पीएचई अब उन पार्षदों को बिल की राशि पार्षद मद से लेने के लिए पत्र भेजने की तैयारी में है। पार्षद मद से बिजली बिल की राशि काटी जाएगी।

बिल की राशि मद से काटेंगे

पार्षदों को मोटरों के बिजली कनेक्शन वैध कराने और बिजली खर्च के लिए पत्र लिखा है। बिजली कंपनी ने बिल भेजा है। अगले ढाई साल के लिए मोटर चलने से आने वाले खर्च का आंकलन कर बिजली खर्च की राशि काटी जाएगी। डॉ. विजयकुमार जे, निगमायुक्त

परिषद में निर्णय होना चाहिए

यह गलत है। ऐसे फैसले परिषद में होना चाहिए। पार्षद मद से भुगतान हो या निगम मद से पैसा तो निगम का ही जा रहा है। इससे वार्डों में विकास कार्य प्रभावित होंगे। मीना जोनवाल, महापौर

आपत्तिजनक है पत्र की भाषा

पत्र की भाषा आपत्तिजनक है। कहा है कि पार्षद कनेक्शन लें और बिल भुगतान करें। यह पार्षद का काम नहीं है। हम विरोध करेंगे। निगम मुद्दे को परिषद में लाए और बजट मंजूर करे। राजेंद्र वशिष्ठ, नेता प्रतिपक्ष

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ujjain

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×