पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Ujjain News Mp News Agricultural Produce Mandis Will Be Closed For 10 Days

10 दिन बंद रहेंगी कृषि उपज मंडियां

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

उज्जैन | पहली बार बंपर सीजन में कृषि उपज मंडियां 10 दिन के लिए बंद कर दी गई है। 20 मार्च की शाम को प्रशासन ने भीड़ वाले इलाकों की पड़ताल की तो कृषि उपज मंडियों की हजारों लोगों की भीड़ का जिक्र आया। तत्काल शुक्रवार शाम को मंडियां बंद करने का आदेश आया। किसान 2 दिन पहले से उपज बेचने के लिए मंडियों में डेरा डालते हैं। शुक्रवार शाम को 100 से अिधक ट्रॉलियां बिकने के लिए तैयार थी। इसके बाद गेहूं की ट्रॉली आने का सिलसिला बना रहा। यह हाल िजले की अिधकांश मंडियों का रहा। शनिवार को सभी मंडियों का नीलाम करवा कर किसानों की उपज बिकवाई गई। 10 से 11 दिन मंडी बंद में करोड़ों का व्यापार नहीं होगा। मंडी व्यापारी हजारीलाल मालवीय ने बताया व्यापारियों के पास खरीदी उपज की लोड़िंग अनलोड़िंग करना पड़ेगी।

पैदावार ज्यादा फिर भी गेहूं महंगा बिकता है : गेहूं का भाव स्तर ज्यादा पैदावार के बाद भी महंगा साबित हो रहा है। सरकारी समर्थन दाम 1925 रुपए मंडी में भी भाव फर्क के चलते 100 रुपए का बदलाव चल रहा है। मंडी का चलता सीजन रुकने से अप्रैल माह में ही इसके चलने की संभावना बताई जा रही है। 10 दिन मंडी बंद के बाद 1 अप्रैल बैंक, 2 अप्रैल को अवकाश से 3 अप्रैल को मंडी के चलने की संभावना है। उज्जैन में मार्के वाले गेहूं के व्यापारी सारटेक्स क्लीन मशीनों पर गेहूं की क्वालिटी बनाकर भेजते हैं। इन्हें इसमें लाभकारी दाम मिलते हैं। अब गेहूं का व्यापार 15 दिन पिछड़ता नजर आ रहा है।

6450 वाला डालर 6150 रुपए हो गया, खरीदारों की कमी: डालर चना 300 रुपए क्विंटल घट गया। एक दिन पूर्व 6450 रुपए कंटेनर के भाव हो गए लेकिन शनिवार को 6150 के भाव बोले जाने लगे। डालर का बड़ा स्टॉक लेकर बैठे लोगों ने अचानक तेजी लाकर फिर मंदी में आ गए। इस समय डालर चने में व्यापार अभाव चल रहा है। 1-2 साल पुराना डालर चना बिकने के लिए तैयार है। खरीदार पार्टी पुराना चना नहीं लेती। नया चना कम और अच्छी क्वालिटी वाला भी नहीं आया है। व्यापार के लिए धामनोद तरफ से चना खरीद कर मंगवाया जा रहा है।
खबरें और भी हैं...