• Hindi News
  • Mp
  • Ujjain
  • Ujjain News mp news dadagiri of swine keepers stones knives on the special team of the corporation in front of the police force big question why not rasuka on them

सूअर पालकों की दादागिरी...पुलिस बल के सामने ही निगम की स्पेशल टीम पर पथराव, चाकू दिखाए, बड़ा सवाल : इन पर रासुका क्यों नहीं?

Ujjain News - पूरे एक साल बाद मंगलवार को जब निगम की स्पेशल टीम सूअर पकड़ने पहुंची तो सूअर पालक दादागिरी पर उतर आए। कुछ लोगों ने...

Dec 04, 2019, 10:57 AM IST
पूरे एक साल बाद मंगलवार को जब निगम की स्पेशल टीम सूअर पकड़ने पहुंची तो सूअर पालक दादागिरी पर उतर आए। कुछ लोगों ने पुलिस बल के सामने ही टीम के सदस्यों और निगम कर्मचारियों को चाकू दिखाए। एक जगह पथराव भी किया। पुलिस आगे बढ़कर उन्हें दबोच लेती लेकिन वे इससे पहले ही भाग खड़े हुए। निगम टीम ने छह घंटे में पांच कॉलोनियों से 72 सूअर पकड़े। खुलेआम हमला करने वालों के खिलाफ निगम ने पुलिस एफआईआर तक नहीं कराई, जबकि ऐसे लोगों पर रासुका की कार्रवाई होना चाहिए।

इंदौर-उज्जैन हाईवे के महामृत्युंजय द्वार के पास सुबह 11 बजे निगम का अमला एकत्र हुआ। यहीं पर पुलिस बल भी पहुंच गया। दोपहर 12.30 बजे सूअर पकड़ने वाले विशेषज्ञों की दो टीम मौके पर पहुंची। उनके हाथों में सूअर पकड़ने का जाल, रस्सियां, डंडे और पाइप थे। 15 लोगाें की टीम ने बसंत विहार कॉलोनी से कार्रवाई शुरू की। शुरुआत में उन्हें एक-एक सूअर मिला लेकिन टीम के आगे बढ़ते ही उन्हें झुंड दिखाई देने लगे। निगम के अफसर, पुलिस और स्पेशल टीम को देखकर रहवासी घरों से बाहर आ गए। उन्होंने निगम अफसरों से सवाल किए तो पता लगा कि सूअर पकड़ने आए हैं। इसके बाद रहवासियों ने राहत की सांस ली। उन्होंने निगम की मदद भी की। जैसे ही टीम महाकाल वाणिज्य केंद्र पहुंची, वहां पर पशुपालकों ने कार्रवाई का विरोध करते हुए टीम को चाकू दिखाए। पीछे से बड़ी संख्या में पुलिस को आते देख वे भाग खड़े हुए। इसी तरह इस्कॉन मंदिर के पीछे सूअर पकड़ने गई टीम पर पत्थर बरसाए।

लंबे समय से निगम सूअर पालकों के खिलाफ कार्रवाई की योजना बना रहा था। सूअर की संख्या बढ़ने की लगातार आ रही शिकायतों के बाद तय हुआ कि इन्हें पकड़ने के लिए स्पेशल टीम का सहारा लिया जाएगा। निगम के अफसरों ने प्रदेश के उन स्थानों की रिपोर्ट मंगवाई, जहां सूअरों को पकड़ने की कार्रवाई की थी। इसके बाद मंगलवार से गुपचुप तरीके से कार्रवाई तय की। स्पेशल टीम ने बंसत विहार, प्रगतिनगर, गुलमोहर कॉलोनी, महाकाल वाणिज्य केंद्र, इस्कॉन मंदिर के पीछे से 72 सूअरों को पकड़ा।

गुलमोहर कॉलोनी में धरपकड़...इस पॉश कॉलोनी में सूअरों की संख्या बहुत ज्यादा है, मंगलवार को टीम ने यहां से 10 से ज्यादा सूअर पकड़े।

चेतावनी बेअसर तो की कार्रवाई

शहर में सूअर विचरण को लेकर निगम ने सूअर पालकों को शहर से बाहर करने की हिदायत दी थी लेकिन सूअर पालकों ने निर्देश को हवा कर दिया और सूअर शहर भर में खुले रूप से घूमते रहे हैं जिसके चलते आए दिन सुअरों के कारण बीमारियां होने की शिकायतें भी मिलने लगी। उपायुक्त भविष्य खोबरोगड़े और योगेंद्र पटेल के अनुसार कार्रवाई आगे भी जारी रहेगी। उपायुक्त संजेश गुप्ता ने बताया टीम सूअरों को अपने साथ ही ले गई, अब ये शहर में नहीं रहेंगे।

सबूत जुटाने के बाद करेंगे कार्रवाई

निगम की स्पेशल टीम पर सूअर पालकों ने हमला किया। रासुका या किसी अन्य कार्रवाई के लिए निगम अपनी ओर से सबूत जुटाने में लगा है। इसके बाद कार्रवाई की जाएगी। क्षितिज सिंघल, निगमायुक्त

3 दिसंबर 2018 को तोड़े थे 30 बाड़े

निगम ने इससे पहले 3 दिसंबर 2018 को सूअर पालकों के 30 बाड़ों पर कार्रवाई की थी। उस दौरान सूअर पलकों के मकान भी तोड़े थे। निगम प्रशासन ने अलसुबह पुलिस बल के साथ अचानक कार्रवाई की थी। जिसके चलते लोगों को विरोध करने का मौका नहीं मिला था। निगम ने सूअर पालकों के खिलाफ कार्रवाई की शुरुआत नीलगंगा स्थित जबरन कालोनी से की थी। जहां नरेंद्र पासी, रोशन पासी के अवैध मकान और सूअर बाड़ों को तोड़ा था।

छह घंटे चली कार्रवाई

12.30
बजे शुरू हुआ सूअरों को पकड़ना

6.30 बजे तक चली कार्रवाई

60 कर्मियों ने की कार्रवाई

40 पुलिस जवान तैनात

72 सूअर पकड़े

5 कॉलोनी से पकड़े सूअर

68 सूअर पालक है शहर में

2000 सूअर घूम रहे शहर में

इन कॉलोनियों में सबसे ज्यादा सूअर

महानंदानगर, महाश्वेतानगर, वेदनगर, ऋषिनगर, दशहरा मैदान, प्रगति नगर, इंदिरा नगर, राजीव नगर।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना