17 कर्मचारियों के प्रकरण की फीस में हेराफेरी, 32 हजार के स्थान पर 85 हजार लिए, सेक्टर सुपरवाइजर यति निलंबित

Ujjain News - स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों के कोर्ट प्रकरण में शासकीय अधिवक्ता की फीस में हेराफेरी कर 35 हजार की बजाए 85 हजार की...

Dec 04, 2019, 10:56 AM IST
Ujjain News - mp news fraud in the fees of 17 employees for 85 thousand instead of 32 thousand sector supervisor yeti suspended
स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों के कोर्ट प्रकरण में शासकीय अधिवक्ता की फीस में हेराफेरी कर 35 हजार की बजाए 85 हजार की राशि निकाल ली गई। मामले में स्वास्थ्य विभाग के सेक्टर सुपरवाइजर की गड़बड़ी सामने आई है। विभाग ने उसे निलंबित कर दिया है।

स्वास्थ्य विभाग के 17 दैनिक वेतन भोगी कर्मियों को चतुर्थ श्रेणी के पद पर नियमित किए जाने को लेकर कर्मचारियों की ओर से कोर्ट में अवमानना याचिकाएं दायर की गई हैं। इसमें शासकीय अधिवक्ता राहुल कौशिक की फीस के भुगतान के वाउचर व रसीदों में एमपीएस बहुउद्देशीय सुपरवाइजर एमके यति ने हेराफेरी कर राशि बढ़ा दी। उन पर फर्जी सील व हस्ताक्षर किए गए। मामले में शासकीय अधिवक्ता कौशिक ने 13 जून 2019 को प्रमुख सचिव स्वास्थ्य विभाग को अवगत कराया कि उनकी फीस के वाउचर व रसीदों में हेराफेरी की जाकर राशि बढ़ाई जाकर भुगतान लिया गया है। जिसमें जांच की गई तो रसीदों में हेराफेरी होना पाया गया। मामले में एमके यति को निलंबित कर दिया है। निलंबन अवधि में यति का मुख्यालय कार्यालय क्षेत्रीय संचालक स्वास्थ्य सेवाएं रीवा रहेगा। संचालक संचालनालय स्वास्थ्य सेवाएं डॉ. जे विजय कुमार ने इसके आदेश जारी कर दिए हैं। उन्होंने अपने आदेश में लिखा है कि यति ने शासकीय कार्य में गंभीर लापरवाही बरती है तथा शासकीय धनराशि का दुरूपयोग करते हुए आर्थिक अनियमितता की है। जो कि आर्थिक कदाचरण की श्रेणी में आता है। उन्होंने सिविल सेवा नियम 1966 के नियम-3 क उपनियम का उल्लंघन किया है। सीएमएचओ कार्यालय में आदेश पहुंचते ही यति पर कार्रवाई की है।

ज्यादा राशि लेकर शासन को नुकसान पहंुचाया

एक लाख दो हजार रुपए के भुगतान के लिए डॉ. मनीष जौजरे उपसंचालक को बिल प्रस्तुत किए थे। जिसमें साठ हजार रुपए की राशि ऑनलाइन भुगतान की गई व 25 हजार रुपए की राशि यति को नकद के रूप में भुगतान की गई। उन्हें कुल 85 हजार रुपए का भुगतान किया गया। यति ने 32 हजार रुपए के स्थान पर 85 हजार रुपए लेकर शासन को आर्थिक नुकसान पहुंचाया है। उन्होंने कोर्ट प्रकरणों के लिए आठ हजार रुपए के मान से फीस का भुगतान किया और 25500 रुपए के मान से वाउचर व रसीदें भुगतान के लिए प्रस्तुत की थी। वाउचर व रसीदों पर सील व हस्ताक्षर शासकीय अभिभाषक कार्यालय नई दिल्ली के नहीं है।

महिला को प्लाॅट के लिए जमीन दिखाई, रजिस्ट्री कम्युनिटी हॉल की जगह पर कराकर धोखाधड़ी

बसंत विहार निवासी महिला से प्लाॅट के नाम पर 70 लाख रुपए से अधिक की धोखाधड़ी में चिमनगंज मंडी पुलिस ने मंगलवार को कैलाश चौहान निवासी फ्रीगंज को गिरफ्तार किया। पुलिस ने बताया कि कोर्ट में पेश करने पर आरोपी को सेंट्रल जेल भैरवगढ़ भेज दिया। पुलिस ने बताया कि रन्नोदेवी पति ब्रजमोहन जादौन ने रिपोर्ट की थी कि प्राॅपर्टी ब्रोकर कैलाश चौहान ने मक्सीरोड स्थित केशरबाग कॉलोनी में जिस जगह प्लाट दिखाया था वह जमीन कम्युनिटी हाॅल की निकली। चौहान ने फर्जी तरीके से उक्त जमीन की रजिस्ट्री करवा दी लेकिन बाद में धोखाधड़ी का पता चलने पर मंडी थाने आकर पुलिस को घटना की जानकारी दी थी, जिसमें कार्रवाई हुई है। महिला मूलत: ग्वालियर की रहने वाली है आैर दो साल पहले जमीन का सौदा किया था। उस दौरान प्रॉपर्टी ब्रोकर ने जगह पसंद कराई जाने के बाद दस्तावेज तैयार कराए थे लेकिन उक्त जगह कम्युनिटी हॉल की थी, यह नहीं बताया था। आरोपी प्राॅपर्टी ब्रोकर का इस्कॉन रोड पर रेस्टोरेंट है। मंगलवार को गिरफ्तारी को लेकर यह चर्चा भी सामने आई थी कि आरोपी कोर्ट में पेश हुआ। हालांकि पुलिस ने इससे इनकार कर दिया।

आरोपी चौहान

X
Ujjain News - mp news fraud in the fees of 17 employees for 85 thousand instead of 32 thousand sector supervisor yeti suspended
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना