पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एरोबिक्स की तरह दुनियाभर में फैलाएंगे मलखंभ

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शहर के पूर्व मलखंभ खिलाड़ी फिजियोथैरेपिस्ट बन गए हैं। इंदौर और उज्जैन में उन्होंने अपने सेंटर भी शुरू किए हैं। हालांकि ये उनका प्रोफेशन है जिससे वे काफी आय अर्जित कर लेते हैं लेकिन वे इस सफलता का श्रेय योग और मलखंभ को देते हैं। पिछले दिनों ईस्ट वेस्ट योग कंपनी द्वारा इंडोनेशिया में टीचर्स के लिए आयोजित योग ट्रेनिंग प्रोग्राम में प्रशिक्षण अधिकारी के रूप में गए थे। जहां योग के साथ उन्होंने टीचर्स को मध्यप्रदेश के राजकीय खेल मलखंभ की बारीकियां भी सिखाई। रोप मलखंभ पर रिसर्च कर वे इसे पूरी दुनिया में फैलाने की तैयारी कर रहे हैं।

मलखंभ के पूर्व खिलाड़ी अनुराग आचार्य ने बताया साल 2002 से लेकर 2007 तक उन्होंने मलखंभ का प्रशिक्षण लिया और स्टेट चैंपियनशिप में ब्रांज मैडल जीता। 12 वीं पास करने के बाद फिजियोथैरेपिस्ट का कोर्स किया जिसके कारण मलखंभ की प्रैक्टिस छूट गई। इंदौर-उज्जैन में स्वयं का क्लीनिक खोलने के बाद आचार्य ने मलखंभ पर रिसर्च करना शुरू कर दिया है। पिछले दिनों आचार्य इंडोनेशिया में 17 देशों के योग प्रशिक्षकों को योग की ट्रेनिंग देने गए थे जहां उन्होंने मलखंभ और रोप मलखंभ भी सिखाया। अनुराग ने कहा विदेशों से आई एरोबिक्स तकनीक पूरे भारत में प्रचारित है। भारतीय खेल मलखंभ और रोप मलखंभ बीमारियों को दूर करने के लिए एरोबिक्स से ज्यादा अच्छी तकनीक है। यदि लोगों को प्राथमिक स्तर का मलखंभ और रोप मलखंभ कराया जाए तो जोड़ों का दर्द, कमर दर्द, रीढ़ की हड्डी जैसी तकलीफों को दूर किया जा सकता है। आचार्य का कहना है कि जल्द ही वे मलखंभ और रोप मलखंभ को विदेशों में फैलाएंगे ताकि भारतीय शैली के इस खेल के जरिए पूरी दुनिया के लोगों को फायदा मिले।

इंडोनेशिया में मलखंभ और योग से होने वाले लाभ को बताते आचार्य।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- किसी भी लक्ष्य को अपने परिश्रम द्वारा हासिल करने में सक्षम रहेंगे। तथा ऊर्जा और आत्मविश्वास से परिपूर्ण दिन व्यतीत होगा। किसी शुभचिंतक का आशीर्वाद तथा शुभकामनाएं आपके लिए वरदान साबित होंगी। ...

    और पढ़ें