फिर मैली हुई शिप्रा...भैरवगढ़ पुल के नीचे परछाई में दिखी कान्ह के गंदे पानी की हकीकत

Ujjain News - कान्ह का प्रदूषित पानी आने से शिप्रा का पूरा पानी दूषित हो गया। त्रिवेणी, रामघाट और भैरवगढ़ पुल के नीचे शिप्रा में...

Nov 21, 2019, 09:42 AM IST
Ujjain News - mp news shipra became dirty again reality of kanh39s dirty water seen in the shadow under bhairavgarh bridge
कान्ह का प्रदूषित पानी आने से शिप्रा का पूरा पानी दूषित हो गया। त्रिवेणी, रामघाट और भैरवगढ़ पुल के नीचे शिप्रा में यह दूषित मटमैला पानी दिख रहा है।

कान्ह डायवर्सन पाइप लाइन का लीकेज बंद नहीं कर पाए अफसर, नतीजा...

राघौपिपल्या स्टापडेम ओवर फ्लो, त्रिवेणी से भैरवगढ़ तक शिप्रा में कान्ह का दूषित पानी

भास्कर संवाददाता | उज्जैन

कान्ह डायवर्सन पाइप लाइन में लीकेज होने से अब इसका गंदा पानी शिप्रा में मिल रहा है। इससे त्रिवेणी की अप स्ट्रीम से लेकर रामघाट तक शिप्रा का पानी काला हो गया है। प्रदूषण के कारण इसका पेयजल में उपयोग नहीं हो सकता। इसमें स्नान करना भी खतरनाक हो सकता है।

सिंहस्थ 2016 के पहले 99 करोड़ रुपए की लागत से कान्ह के गंदे पानी को शिप्रा में मिलने से रोकने के लिए 19 किमी डायवर्सन पाइप लाइन डाली। यह पाइप लाइन गोठड़ा, जीवनखेड़ी, सिकंदरी में लीकेज हो गई है। इसमें सुधार के लिए जल संसाधन विभाग ने डायवर्सन लाइन बंद कर दी है। इससे इंदौर से आ रहा प्रदूषित पानी राघौपिपलिया स्टापडेम में जमा हो रहा है। यह स्टापडेम ओवरफ्लो हो जाने से गंदा पानी बह कर त्रिवेणी पर शिप्रा में मिल रहा है। इससे त्रिवेणी के अप स्ट्रीम में हरियाखेड़ी तक और डाउन स्ट्रीम में त्रिवेणी से रामघाट तक पानी प्रदूषित हो गया है। कान्ह का पानी तेजी से शिप्रा में आने से बिन बरसात त्रिवेणी, गऊघाट और रामघाट स्टापडेम ओवरफ्लो हो रहे हैं। कान्ह का गंदा पानी रामघाट से आगे तक शिप्रा में भर रहा है।

15 जनवरी को संक्रांति का स्नान

रामघाट तीर्थ पर अब 15 जनवरी 2020 को मकर संक्रांति का स्नान पर्व रहेगा। रामघाट पर भरा कान्ह का प्रदूषित पानी खाली कर नर्मदा का पानी लेकर यहां भरना होगा। इसके पहले रामघाट पर आने वाले श्रद्धालुओं का सामना गंदे पानी से होगा।

पाइप लाइन खोली तो खेतों में पानी

जल संसाधन ने राघौ पिपलिया से शिप्रा में पानी आने की स्थिति को देख डायवर्सन पाइप लाइन बुधवार को फिर खोल दी। इससे खेतों में पानी भर गया। यह पानी भी बह कर शिप्रा में ही मिलेगा। इससे शिप्रा में गंदे पानी को मिलने से रोकना मुश्किल हो गया है।

एक साल का मेंटेनेंस ठेका देंगे

जल संसाधन के ईई टीके परमार ने बताया लीकेज सुधार के प्रयास कर रहे हैं। एक साल तक मेंटेनेंस का ठेका दिया जाएगा। टेंडर डॉक्युमेंट तैयार कर रहे हैं। टेंडर के बाद सुधार होगा। एक साल तक ठेकेदार ही लाइन का मेंटेनेंस करेगा। लीकेज में तुरंत सुधार हो सकेगा।

मंत्री बोले- लीकेज सुधारेंगे

जल संसाधन मंत्री हुकुमसिंह कराड़ा ने कहा कि लीकेज को सुधारने के लिए अिधकारियों को निर्देश दिए हैं। समस्या यह आ रही है कि लाइन के मेंटेनेंस के लिए पूर्व सरकार ने कोई हेड नहीं रखा। बचत की राशि से सुधार के लिए कहा है। शिप्रा को साफ रखने की जवाबदारी पूरी करेंगे।

रामघाट में पानी काला हो गया है। यह बोतल में दिखाई दे रहा है।

असर...90 एमसीएफटी पानी खराब, शहर में 15 दिन सप्लाई किया जा सकता था

पीएचई शिप्रा के पानी को गऊघाट स्टापडेम से जलप्रदाय के लिए लेती है। उपयंत्री संतोष दायमा के अनुसार त्रिवेणी से गऊघाट तक 90 एमसीएफटी पानी शिप्रा में रहता है। इस पानी से 15 दिन तक शहर में जलप्रदाय हो सकता है। इसमें कान्ह का गंदा पानी मिल जाने से अब इसका उपयोग नहीं हो सकेगा। रामघाट पर भी यह प्रदूषित पानी भरने से स्नान करना खतरनाक हो गया है। शिप्रा में प्रदूषण फैल जाने से पीएचई जलप्रदाय में इसका उपयोग नहीं कर सकती। हालाकि अभी शहर में गंभीर डेम से ही जलप्रदाय हो रहा है। गंभीर में अप स्ट्रीम का पानी आने अभी डेम पूरी क्षमता 2250 एमसीएफटी तक भरा हुआ है। इससे जलप्रदाय में कोई परेशानी नहीं आएगी।

Ujjain News - mp news shipra became dirty again reality of kanh39s dirty water seen in the shadow under bhairavgarh bridge
X
Ujjain News - mp news shipra became dirty again reality of kanh39s dirty water seen in the shadow under bhairavgarh bridge
Ujjain News - mp news shipra became dirty again reality of kanh39s dirty water seen in the shadow under bhairavgarh bridge
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना