• Hindi News
  • Mp
  • Ujjain
  • Ujjain News mp news the era of bhajan is going on many new tv channels have started not a single one of ghazals

भजन का दौर बढ़ ही रहा है, कई नए टीवी चैनल शुरू हो गए, गजल का एक भी नहीं

Ujjain News - भजन सम्राट अनूप जलोटा का कहना है कि भजनों का दौर बढ़ता जा रहा है। टीवी पर कई नए चैनल शुरू हो गए हैं। गजल का एक भी चैनल...

Oct 21, 2019, 09:20 AM IST
भजन सम्राट अनूप जलोटा का कहना है कि भजनों का दौर बढ़ता जा रहा है। टीवी पर कई नए चैनल शुरू हो गए हैं। गजल का एक भी चैनल नहीं है। इसी से साबित हो जाता है कि आम नागरिकों में भजन को लेकर ज्यादा रुचि है।

जलोटा ने भास्कर के लिए खास इंटरव्यू में कहा कि भजन का दौर कभी समाप्त नहीं हो सकता, क्योंकि भजन व्यक्ति को शांति देते हैं। भजन सुनने वाले के मन में भगवान के प्रति अनुराग जागता है। कहते हैं जप और पूजा से भी ज्यादा पुण्य भजन से मिलता है। भजन व्यक्ति को तनाव से मुक्त करते हैं, जीवन के प्रति विश्वास जगाते हैं। उसे निराशा से बाहर लाते हैं। आप दूसरे किसी संगीत का आनंद कुछ समय ले सकते हैं लेकिन भजन का आनंद आपको दिनभर महसूस होता है। यही कारण है कि मंदिरों में पूजा-पाठ के साथ भजन की परंपरा रही है। घरों में भी आरती के साथ भजन गाने की परंपरा आज भी कई जगह मिलती है।

भास्कर के लिए जलोटा का इंटरव्यू पं. व्यास ने लिया।

समाज में शांति चाहिए तो भजन को अपनाएं

जलोटा ने कहा- समाज में बढ़ती अशांति हमें इसलिए दिखाई देती है क्यों कि इसी की गूंज हम तक पहुंचाई जाती है। जबकि हालात ऐसे नहीं हैं। आज भागवत कथाओं, भजन संध्याओं के कार्यक्रम ज्यादा होते हैं। क्योंकि कथा-भजन आदि में लोगों की आस्था बढ़ी है। उन्हें वहां मन की शांति मिलती है। भजन व्यक्ति में बदलाव लाता है। यदि समाज में शांति चाहिए तो भजन से जुड़ना होगा। जलोटा रविवार को महाकाल प्रवचनधाम में आयोजित उत्सव महाकालेश्वर के रजत जयंती समारोह व सुरेश तातेड़ के अमृत महोत्सव में शामिल होने आए। गीतकार सूरज उज्जैनी ने बताया जलोटा के जीवन पर आधारित फिल्म बन रही है। जिसमें उनके बिग-बॉस वाले घटनाक्रम को भी शामिल किया है।

मधुवन के तातेड़ का अमृत महोत्सव, शहर की संस्थाओं ने किया अभिनंदन

संस्था मधुवन के संस्थापक सुरेश तातेड़ का रविवार को 75 वीं वर्षगांठ पर शहर की संस्थाओं ने अभिनंदन कर अमृत महोत्सव मनाया। महाकाल प्रवचनधाम में आयोजित समारोह में बतौर अतिथि आए भजन गायक अनूप जलोटा ने कहा एक समय था जब मैंने तातेड़जी के साथ मंच पर दरियां बिछाई हैं। उन्होंने कलाकारों के लिए जो किया वह वंदनीय है। इस मौके पर तातेड़ एवं उनकी प|ी मधु को लोगों ने फूलमालाओं से लाद दिया। मधुवन की ओर से उन्हें चांदी का अमृत कलश भेंट किया गया। कार्यक्रम में शहर के साथ इंदौर, भोपाल और देश के अन्य स्थानों से आए कलाकार मौजूद थे। इस मौके पर जलोटा ने भजनों की तथा बालिकाओं ने भरतनाट्यम और कथक की प्रस्तुतियां दीं।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना