• Hindi News
  • Mp
  • Ujjain
  • Ujjain News mp news the sentiment of rebellion towards social order in sant ravidas vani maharaj anand

संत रविदास वाणी में समाज व्यवस्था के प्रति विद्रोह का भाव- महाराज आनंद

Ujjain News - सामाजिक न्याय परिसर में संत रविदास जयंती के उपलक्ष्य में आयोजित कथा में महाराज आनंद ने कथा सुनाते हुए कहा संत...

Feb 15, 2020, 09:45 AM IST

सामाजिक न्याय परिसर में संत रविदास जयंती के उपलक्ष्य में आयोजित कथा में महाराज आनंद ने कथा सुनाते हुए कहा संत रविदास की वाणी में तत्कालीन समाज व्यवस्था के प्रति मुखर विद्रोह का भाव था।

आनंद महाराज ने कहा कि इससे पता चलता है कि वे असमानता और अमानवीयता पर आधारित वर्णवादी व्यवस्था को ध्वस्त कर दुखविहिन समता प्रधान समाज की स्थापना करना चाहते थे। गुरु रविदास का विवाह कम उम्र में ही हो गया था। विवाह के कुछ समय बाद ही रविदास को पुत्र प्राप्त हुआ जिसका नाम विजयदास था। रविदास का प्रारंभिक जीवन पूर्ण पारिवारिक था कुछ दिनों बाद प|ी का देहांत हो गया। इसके बाद रविदास ने घर छोड़कर अनेक प्रदेशों का भ्रमण किया। वे अपने पदों के और सत्संग के द्वारा समाज में फैली रूढ़ीवादिता पर प्रहार कर समाज को जागृत करने का कार्य करने लगे। उन्हें पंजाब में रैदास, बंगाल में रूईदास, महाराष्ट्र में रोहिदास, राजस्थान में रायदास, गुजरात में रोहिदास अथवा रोहितास के नाम से संबोधित किया गया। मधुर एवं सहज संत शिरोमणि रैदास की वाणी ज्ञानाश्रयी होते हुए भी ज्ञज्ञनाश्रयी एवं प्रेमाश्रयी शाखाओं के मध्य सेतु की तरह है। वे संत कबीर के गुरुभाई थे क्योंकि उनके गुरु स्वामी रामानंद थे।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना