पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • Ujjain News Mp News Ujjain Indore Doubling In 18 Months Trains To Run In Fatehabad In December

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

उज्जैन-इंदौर दोहरीकरण 18 महीने में, फतेहाबाद तक दिसंबर में दौड़ेंगी ट्रेनें

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रेलवे से जुड़े दो प्रोजेक्ट के काम बारिश में रुकेंगे नहीं। उज्जैन-इंदौर दोहरीकरण और उज्जैन-फतेहाबाद गेज परिवर्तन में बैस वर्क पूरा हो चुका है। ऐसे में बारिश से इन पर कोई असर नहीं होने वाला। रविवार को शहर आए डीआरएम आरएन सुनकर ने भास्कर से चर्चा में यह बात कही। उन्होंने दावा किया कि उज्जैन-फतेहाबाद के बीच दिसंबर में ट्रेन दौड़नेे लगेंगी। इस प्रोजेक्ट के लिए जरूरी बैस वर्क के बाद रूट टेस्टिंग का काम हो रहा है। इसी तरह उज्जैन-इंदौर ट्रैक दोहरीकरण के लिए दो साल का लक्ष्य है। इसमें से छह महीने में बैस का काम दोनों ओर से किया जा रहा है।

उज्जैन-देवास-इंदौर रेलवे ट्रैक दोहरीकरण के लिए ड्राइंग-डिजाइन यानी कागजी कार्रवाई के बाद अक्टूबर 2018 से जमीनी काम शुरू हो गया था। शुरुआत में उज्जैन के विक्रमनगर और इंदौर के मांगलिया गांव स्टेशन पर सुविधाएं बढ़ाई जाएंगी। डीआरएम के अनुसार दोनों ही स्टेशनों को इस तरह डिजाइन किया गया है कि ट्रैक दोहरीकरण के लिए आने वाली ट्रेन को यहां पर कोई परेशानी न हो। इनका काम 30 प्रतिशत पूरा भी हो गया है। जल्द ही यहां पर लोगों को नए स्टेशन भवन दिखाई देंगे। इसके अलावा इस रूट पर 29 नए पुल-पुलियां भी बनाए जा रहे हैं।

बैसवर्क के बाद टेस्टिंग का काम भी हो गया

विक्रमनगर स्टेशन के पास उज्जैन-इंंदौर दोहरीकरण के लिए किया बैस वर्क।

700 करोड़ रुपए में पूरा होगा दोहरीकरण का काम

डीआरएम ने रतलाम मंडल के इंजीनियरों के साथ उज्जैन से विक्रमनगर स्टेशन तक ट्रैक पर पैदल दौरा कर अफसरों को ऐसा ट्रैक बनाने के निर्देश दिए थे जिससे यात्रियों को सफर के दौरान कोई परेशानी न हो। शुरुआत उज्जैन स्टेशन से हो गई है। वर्कआर्डर मिलने के बाद निर्माण कंपनी ने उपकरण व कर्मचारी सेटअप के अनुसार में जुटे हैं। 79 किलोमीटर लंबे रूट के दोहरीकरण पर रेलवे 700 करोड़ रुपए खर्च करेगी। दोहरीकरण से ट्रेन यातायात बढ़ेगा। इंदौर-उज्जैन के बीच सफर का समय कम होगा। हालांकि इस बार के बजट में 20 करोड़ रुपए मिलने से काम की गति प्रभावित हो सकती है लेकिन डीआरएम का कहना है कि बाेर्ड से अब तक कोई निर्देश नहीं मिले हैं। ऐसे में प्रोजेक्ट अपनी गति से आगे बढ़ाया जाएगा।

दिसंबर में ट्रैक की टेस्टिंग के लिए चलाएंगे ट्रेन

उज्जैन-फतेहाबाद लाइन के गेज परिवर्तन का काम दिसंबर में पूरा करने का दावा किया जा रहा है। मार्ग पर पुरानी पटरियां हटाने के बाद आधार बनाकर नई पटरियां डालने के लिए टेस्टिंग का काम पूरा हो चुका है। रेलवे ने दो अलग-अलग टेंडर बुलाए थे। एक पुरानी पटरियां हटाने का और दूसरा नई पटरियां बिछाने का। काली मिट्टी के बीच निर्माण के लिए रेलवे ने ब्लैंकेट डाल कर अस्थाई परत बिछाई है। उज्जैन-फतेहाबाद 22 किलोमीटर के गेज परिवर्तन के लिए 4 करोड़ की लागत से पुरानी पटरियां उखाड़ने का काम किया है। अब नई पटरियां 50 करोड़ में बिछाई जाएंगी।

2014 से बंद पड़ा है यहां रेल यातायात

गेज परिवर्तन के लिए यह मार्ग फरवरी 2014 से बंद कर दिया गया है। इससे 18 गांव के लोगों को सड़क से आवागमन करना पड़ रहा है। इस ट्रैक पर चिंतामण और लेकोड़ा स्टेशन पर नया स्वरूप दिया जाएगा। इसके अलावा ट्रैक के दोनों और पानी की निकासी के लिए नालियां बनाई जा रही हैं। जहां पर ब्रिज हैं, वहां नालियों की गहराई ज्यादा रखी है ताकि पानी ज्यादा समय तक न रुके।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति पूर्णतः अनुकूल है। बातचीत के माध्यम से आप अपने काम निकलवाने में सक्षम रहेंगे। अपनी किसी कमजोरी पर भी उसे हासिल करने में सक्षम रहेंगे। मित्रों का साथ और सहयोग आपकी हिम्मत और...

    और पढ़ें