--Advertisement--

किताब हाथ में हाेने से कभी इंतजार नहीं खटकता

सार्वजनिक वाचनालय एवं पुस्तकालय की 80वीं वर्षगांठ पर आयोजित कार्यक्रमों की श्रृंखला का मुख्य कार्यक्रम बौद्धिक...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 04:15 AM IST
सार्वजनिक वाचनालय एवं पुस्तकालय की 80वीं वर्षगांठ पर आयोजित कार्यक्रमों की श्रृंखला का मुख्य कार्यक्रम बौद्धिक वार्ता एवं पुरस्कार वितरण समारोहपूर्वक सम्पन्न हुआ। इसके अंतर्गत वाचनालय द्वारा छात्रों के लिए जूनियर व सीनियर वर्गों में आयोजित सामान्य ज्ञान, क्विज प्रतियोगिता एवं शिक्षकों के लिए वाग्मिता प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कृत किया गया ।

कार्यक्रम के मुख्य वक्ता एवं अतिथि कवि, कथाकार एवं आलोचक संतोष चौबे, वाइस चांसलर आईसेक्ट यूनिवर्सिटी तथा विशिष्ट अतिथि सुपरिचित युवा कवि राग तेलंग थे। अध्यक्षीय आसंदी पर वाचनालय समिति के अध्यक्ष डॉ विजय जैन विराजमान थे।

इस अवसर पर बागेश्वरी पुरस्कार से सम्मानित डॉ मणि मोहन मेहता, प्रतिष्ठित कथाकार मुकेश वर्मा, प्रख्यात कवि एवं पहले पहल प्रकाशन के महेंद्र गगन ,नवांकुर स्कूल बासौदा के प्राचार्य शैलेन्द्र दीक्षित, ‘ इलेक्ट्रॉनिकी ‘ पत्रिका के संपादक एवं युवा कवि मोहन सगोरिया, रवि जैन तथा प्रख्यात गायक एवं संगीतकार सतीश कौशिक विशेष रूप से उपस्थित थे । कार्यक्रम आशा चतुर्वेदी एवं ग्रुप द्वारा सरस्वती वंदना की सुमधुर प्रस्तुति के साथ प्रारंभ हुआ । स्वागत भाषण से लब्ध प्रतिष्ठ व्यंगकार डॉ सुरेश गर्ग ने अपनी सुपरिचित शैली में अतिथियों का अभिनंदन किया। कार्यक्रम की रूपरेखा संयोजक प्रो केके पंजाबी ने रखी। वाचनालय के ऐतिहासिक परिदृश्य पर वरिष्ठ कवि एवं आलोचक सुलखान सिंह हाड़ा ने प्रकाश डाला। विषय ‘किताबों की दुनिया’ पर बोलते हुए अपने उद्बोधन में मुख्य अतिथि संतोष चौबे ने कहा कि किताब हाथ में होने पर कभी भी इंतजार खटकता नहीं है। मुख्य अतिथि द्वारा सम्पादित कहानी संग्रह ‘कथा मध्यप्रदेश’ की एक प्रति भी वाचनालय को भेंट की गई । अतिथियों द्वारा विभिन्न प्रतियोगिताओं के निर्णायक-मंडल एड. गोविंद देवलिया, शशि बंसल,डॉ केडी मिश्रा, शशि सक्सेना को पुस्तकें भेंट कर सम्मानित किया। वाचनालय के स्टाफ सर्वश्री नायकजी, सोनीजी, खान साहब एवं शर्मा जी का शाल-श्रीफल से सम्मान किया गया । वाचनालय समिति द्वारा अतिथियों को स्मृति चिन्ह भेंट किए गए।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..