विदिशा

--Advertisement--

शहर में पहली बार ऐस

सड़क चौड़ीकरण में बाधा बन रही थी पिता की स्मृति में बनवाई 20 टन की म्यूजिकल प्याऊ, बेटों ने तीन क्रेनों से उठवाकर 30 फीट...

Danik Bhaskar

Apr 02, 2018, 05:00 AM IST
सड़क चौड़ीकरण में बाधा बन रही थी पिता की स्मृति में बनवाई 20 टन की म्यूजिकल प्याऊ, बेटों ने तीन क्रेनों से उठवाकर 30 फीट दूर करवाया शिफ्ट


शहर में पहली बार ऐसा हुआ है जब विकास कार्य के आड़े आ रहे किसी पक्के निर्माण कार्य को बिना तोड़े ही शिफ्ट किया गया हो। बात हो रही है सागर रोड पर स्थित शहर के प्रमुख दुर्गानगर चौराहे की। दुर्गानगर निवासी दत्ता परिवार द्वारा स्व. डीएन दत्ता की स्मृति में बनवाई गई एक म्युजिकल प्याऊ इस चौराहे के चौड़ीकरण के दायरे में आ रही थी। इसे प्रशासनिक तो तोड़ने के मूड में था, लेकिन संबंधित परिवार ने प्याऊ को टूटने से बचा लिया। स्व. डीएन दत्ता की स्मृति में बनी इस प्याऊ को उनके बेटों ने अपने निजी खर्चे पर सफल रूप से शिफ्ट करवाकर प्रशासनिक तंत्र के समक्ष एक उदाहरण पेश किया है।

रविवार को इस पक्की प्याऊ को शिफ्ट किए जाने का नजारा देखने के लिए बड़ी संख्या में लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। इस सीसी प्याऊ को तकनीकी इंतजाम और तैयारी के साथ सुरक्षित रूप से शिफ्ट्ट करने में दत्ता परिवार सफल रहा। करीब 30 फीट से भी अधिक दूरी तक तीन क्रेन व एक जेसीबी की सहायता से इस प्याऊ को शिफ किया गया। शिफ्टिंग से पहले प्याऊ के आसपास करीब 4-4 फीट तक गहरी खुदाई की गई। इसके बाद प्याऊ के नीचे के बीम से पाइल को अलग कर नया सीसी स्ट्रक्चर तैयार किया। इस स्ट्रक्चर की सहायता से तीन क्रेनों व एक जेसीबी से उठाकर दूसरी जगह शिफ्ट किया गया। 18 से 20 टन वजनी इस प्याऊ में 6 हजार लीटर का सीसी टैंक भी था। करीब 6 साल पहले मनोज दत्ता, सरोज दत्ता एवं प्रवीण दत्ता ने यह म्युजिकल प्याऊ अपने पिता की स्मृति में बनवाई थी। सरोज दत्ता ने बताया कि इस प्याऊ से उनके पूरे परिवार की भावनाएं जुड़ी हुईं थी। इसलिए इसे टूटने से बचाने के लिए शिफ्ट कराया गया है। उन्होंने बताया कि इस प्याऊ को शिफ्ट करने में करीब एक लाख रुपए खर्च आ रहा है।

विकास कार्य में दायरे में आ रहे किसी पक्के निर्माण की शिफ्ट करने की नई पहल शहर में पहली बार देखने को मिली

Click to listen..