--Advertisement--

खून की कमी से समाज में नहीं होगी किसी की मौत

जनवरी महीने में यादव परिवार की प्रसूता को खून की कमी की वजह से भोपाल रेफर किया गया था। तब प्रसूता तो बच गई लेकिन...

Danik Bhaskar | Mar 02, 2018, 06:05 AM IST
जनवरी महीने में यादव परिवार की प्रसूता को खून की कमी की वजह से भोपाल रेफर किया गया था। तब प्रसूता तो बच गई लेकिन शिशु की माैत हो गई थी। शिशु की मौत की वजह से समाज के लोगों ने सामूहिक रक्तदान करने पर संकल्प था जो अब पूरा हो गया है। यादव महासभा ने तीन तक चले शिविर में 120 यूनिट रक्तदान किया है। यादव महासभा के जिलाध्यक्ष शिवराजसिंह यादव ने बताया कि खून की कमी कई बार लोगों की जान जाने की वजह बन जाती है। जनवरी महीने में समाज की प्रसूता खून की वजह से बहुत परेशान हुई थी। प्रसूता को जब भोपाल रेफर किया गया तब शिशु की मौत हो गई। इस बात से समाज के लोग दुखी भी हुए थे। 25 फरवरी को जब रामलीला तिराहे स्थित राधाकृष्ण मंदिर में यादव महासभा की जिलास्तरीय बैठक हुई तब सभी ने रक्तदान करने का निर्णय लिया था।

नई सोच

जनवरी में शिशु की रक्त की कमी से मौत के बाद यादव महासभा लिया था संकल्प, 3 दिन मेंं किया 120 यूनिट रक्तदान

यादव महासभा का दो दिवसीय रक्तदान शिविर का किया समापन।

जिलेभर से आए युवा

शिविर 27 फरवरी से शुरू हुआ और गुरुवार तक चला। पहले दिन 47 यूनिट रक्तदान हुआ और 28 फरवरी को 33 यूनिट रक्तदान किया गया। वहीं गुरुवार को जिलेभर से आए युवाओं ने 40 यूनिट यूनिट रक्तदान किया। यादव महासभा के जिलाध्यक्ष शिवराजसिंह यादव का कहना है कि रक्तदान शिविर के माध्यम से लोगों को रक्तदान के प्रति जागरुक करना है।