• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Vidisha News
  • निरीक्षण|अस्पताल की गंदगी पर कलेक्टर ने जताई नाराजगी, एएनएम की शिकायत लेकर पहुंचे थे ग्रामीण
--Advertisement--

निरीक्षण|अस्पताल की गंदगी पर कलेक्टर ने जताई नाराजगी, एएनएम की शिकायत लेकर पहुंचे थे ग्रामीण

डेढ़ साल से विदिशा के मुखिया की जिम्मेदारी संभाल रहे कलेक्टर अनिल सुचारी पहली बार सिरोंज अस्पताल पहुंचे। वे...

Danik Bhaskar | Mar 02, 2018, 06:05 AM IST
डेढ़ साल से विदिशा के मुखिया की जिम्मेदारी संभाल रहे कलेक्टर अनिल सुचारी पहली बार सिरोंज अस्पताल पहुंचे। वे अस्पताल में आयोजित स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की बैठक में शामिल होने आए थे। बैठक के बाद उन्होंने अस्पताल का निरीक्षण किया। जाते-जाते कलेक्टर ने प्रश्नचिन्ह लगाते हुए प्रबंधन को सफाई व्यवस्था दुरूस्त करने की हिदायत दी।

जिले के मुखिया बनने के बाद कलेक्टर अनिल सुचारी का कई बार सिरोंज दौरा हो चुका है। वे क्षेत्र के ग्रामीण इलाकों में पहुंचे और व्यवस्था का जायजा लिया। बावजूद इसके अव्यवस्थाओं के लिए चर्चित सिरोंज के राजीव गांधी स्मृति चिकित्सालय में कलेक्टर की आमद नहीं हुई थी। अस्पताल का यह इंतजार गुरुवार को होली के दिन खत्म हुआ। दोपहर दो बजे कलेक्टर श्री सुचारी अस्पताल में आयोजित स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की बैठक में शामिल होने आए। इस बैठक में सिरोंज-लटेरी क्षेत्र के ग्रामीण इलाकों में कार्यरत एएनएम को बुलाया गया था। बैठक में हड़ताल पर चल रहे संविदा कर्मी शामिल नहीं हुए। वहीं जो आए थे उनके चेहरों पर भी होली के दिन बैठक होने की नाराजगी साफतौर पर दिखाई दे रही थी।

बैठक में दिए सुधार के निर्देश

मजबूरी यह थी कि वे अफसरों को अपनी परेशानी बता नहीं सके। बैठक में स्वास्थ्य व्यवस्थाओं में सुधार के लिए दिशा-निर्देश दिए गए। वहीं सीएमएचओ बीएल आर्य ने भी एनएनएम और अन्य कर्मचारियों को टीकाकरण से जुड़ी जानकारी दी। बैठक के उपरांत कलेक्टर ने अस्पताल परिसर का निरीक्षण किया। प्रबंधन उन्हें सीधे प्रसूति वार्ड में लेकर गया। इस वार्ड में आमतौर पर सारे पलंग भरे रहते हैं लेकिन गुरुवार को जब कलेक्टर पहुंचे तो सिर्फ चार प्रसूताएं मौजूद थी। कलेक्टर ने उन्हीं से व्यवस्था संबंधी जानकारी ली। वार्ड से बाहर निकलते हुए उन्होंने प्रबंधन को सफाई व्यवस्था दुरूस्त रखने की सलाह दे डाली। गौरतलब है कि दो दिन पहले स्वास्थ्य विभाग की प्रमुख सचिव गौरीसिंह ने भी अस्पताल के निरीक्षण के दौरान सफाई व्यवस्था पर सवाल उठाए थे।

कलेक्टर के अस्पताल में आने की जानकारी मिलने पर गरेंठा क्षेत्र के अनेक ग्रामीण कांग्रेस नेता रजत गौड़ के नेतृत्व में अपनी समस्या बताने के लिए पहुंचे। इसी बीच विधायक गोवर्धन उपाध्याय भी आ गए। सभी ने गरेंठा उपस्वास्थ्य केन्द्र में पदस्थ एएनएम के रवैये की शिकायत करते हुए उसे वहां से हटाने की मांग की। ग्रामीणों का कहना था कि एएनएम से सब परेशान हैं। आप उन्हें हटाइए। इसी बीच सीएमएचओ बीच में बोल पड़े और ग्रामीणों से पूछा की आपके साथ सरपंच आए हैं।

ग्रामीणों ने इंकार किया तो वे बोले गरेंठा के सरपंच ने एएनएम को नहीं हटाने संबंधी पत्र लिखा है। जब तक वहां के सरपंच नहीं कहेंगे एएननम को नहीं हटाएंगे। सीएमएचओ का जवाब सुनकर विधायक और ग्रामीण सन्न रह गए। कलेक्टर ने एसडीएम को जांच के निर्देश दिए हैं।