--Advertisement--

अस्पताल में नहीं हैं बुखार में दी जाने वाली दवाएं

अस्पताल में नहीं हैं बुखार में दी जाने वाली दवाएं अस्पातल में दवा की हालत यह है कि बुखार में दी जाने वाली...

Danik Bhaskar | Jul 01, 2018, 05:35 AM IST
अस्पताल में नहीं हैं बुखार में दी जाने वाली दवाएं

अस्पातल में दवा की हालत यह है कि बुखार में दी जाने वाली पेरासिटामोल, गैस के मरीजों को दी जाने वाली एसिलॉक टैबलेट, इंजेक्शन, दर्द के दौरान लगने वाले डायक्लोफेनिक गोली, इंजेक्शन डाइजीपारा नहीं हैं। पेशाब बंद होने पर लगाई जाने वाली राइज टू तक नहीं है। जबकि आरएल और एनएस बॉटलें तो दो महीने से अस्पताल में नहीं हैं। चार दिन पहले बॉटल को लेकर मामला तूल पकड़ा तो बीएमओ ने विदिशा से 2000 बॉटल मांगी लेकिन 200 दी गई हैं। जबकि प्रतिदिन अस्पताल में 180 बॉटल लगती हैं। नियमानुसार 15 दिन की दवाओं का स्टाक होना चाहिए लेकिन रोज एक गाड़ी दवा लेने विदिशा जाती है। दो चार दवाएं लेकर वापस आ जाती है। मुफ्त का डीजल जलाया जा रहा है।

चौबीस घंटे में आ जाएंगी दवाएं

जानकारी देते हुए तहसीलदार डा. निधि वर्मा ने बताया कि उनकी जिले के अधिकारियों से चर्चा हुई है। जरुरी दवाएं गाड़ी से रवाना की जा रही हैं। 24 घंटे में स्टोर में मांग के तहत दवाएं आ जाएंगी।