• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Vidisha News
  • जिले में थे 22 प्रसव केंद्र, 15 और बढ़ेंगे, जिनमें भर्ती होने से लेकर चिकित्सा सुविधाएं भी मिलेंगी
--Advertisement--

जिले में थे 22 प्रसव केंद्र, 15 और बढ़ेंगे, जिनमें भर्ती होने से लेकर चिकित्सा सुविधाएं भी मिलेंगी

करीब 15 लाख की आबादी वाले जिले में अभी सिर्फ 22 प्रसव केंद्र हैं। जबकि जिले में हर साल औसत 24 हजार गर्भवती महिलाओं के...

Danik Bhaskar | Jul 10, 2018, 05:40 AM IST
करीब 15 लाख की आबादी वाले जिले में अभी सिर्फ 22 प्रसव केंद्र हैं। जबकि जिले में हर साल औसत 24 हजार गर्भवती महिलाओं के प्रसव होते हैं। अब जिले में 15 प्रसव केंद्र की संख्या बढ़ाई जा रही है। जिसमें उसमें भर्ती होने से लेकर चिकित्सा सुविधाएं भी होगी। वर्तमान में 50 फीसदी प्रसव जिला अस्पताल या सिविल अस्पतालों में ही होते हैं।

जिले में एक जिला अस्पताल और सिर्फ दो सिविल हास्पिटल हैं। सिविल हास्पिटल और जिला अस्पताल में प्रसव संख्या अधिक होने की वजह से काम का दबाव बहुत अधिक है। दरअसल प्रसव की सुविधा स्थानीय स्तर पर न मिलने से गर्भवती महिलाओं को जिला अस्पताल या सिविल हॉस्पिटल आना पड़ता है। दूरी अधिक होने की वजह से इलाज नहीं मिलने से पहले ही जच्चा-बच्चा की मौत हो जाती है।