• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Vidisha
  • 5 घंटे में 5 सेमी बारिश, 16 किमी दूर भाटनी की पुिलया चढ़ने से निजी स्कूल में बच्चे फंसे
--Advertisement--

5 घंटे में 5 सेमी बारिश, 16 किमी दूर भाटनी की पुिलया चढ़ने से निजी स्कूल में बच्चे फंसे

दो दिन से मानसून जिलेभर में सक्रिय है लेकिन विदिशा में कुछ ज्यादा मेहरबान है। गुरुवार की सुबह से ही शहरवासियों को...

Dainik Bhaskar

Jul 06, 2018, 05:55 AM IST
5 घंटे में 5 सेमी बारिश, 16 किमी दूर भाटनी की पुिलया चढ़ने से निजी स्कूल में बच्चे फंसे
दो दिन से मानसून जिलेभर में सक्रिय है लेकिन विदिशा में कुछ ज्यादा मेहरबान है। गुरुवार की सुबह से ही शहरवासियों को बारिश की झड़ी की सौगात मिली। रिमझिम से शुरू हुई बारिश दोपहर में तेज हो गई। दोपहर में बादल इतने ज्यादा सक्रिय थे कि अंधेरा छा गया। अलग-अलग समय पर करीब 5 घंटे में शहर में 5 सेमी बारिश हुई है। इससे मौसम काफी खुशनुमा और ठंडा हो गया। दूसरी तरफ इस बारिश से फसलों को काफी फायदा हुआ है। वहीं जहां बारिश कम हुई है वहां अब बोवनी हो सकेगी। विदिशा अहमदपुर मार्ग पर भाटनी की पुलिया उफान पर आ गई। रास्ता बंद होने की वजह से एक निजी स्कूल में बच्चे फंसे रह गए। वहीं शहर के मोहल्लों के लोग वाहन तो दूर पैदल निकलने में भी मुश्किलों का सामना कर रहे हैं। विदिशा ब्लॉक के झिरनिया गांव में काफी बारिश हुई।

पिछले चार दिन में हलाली का लेवल करीब आधा फीट बढ़ गया है। वहीं सिरांेज में गुरुवार को दोपहर में 1 बजे से शुरू हुआ बारिश का सिलसिला शाम तक चलता रहा। लगातार बारिश की वजह से दीपनाखेड़ा की नदी उफान पर आ गई। शाम तक नदी में उफान कायम रहा। इस वजह से पथरिया से बामौरीशाला मार्ग बंद रहा।

दो दिन से हो रही बारिश से गलियों में हुआ कीचड़

दोपहर में ही छाया अंधेरा, 66 फीसदी हिस्से में हुई है खरीफ की बोवनी, घरों में घुसा पानी

24 घंटे तक सक्रिय रहेंगे बादल

सीहोर कृषि कॉलेज के मौसम वैज्ञानिक एसएस तोमर का कहना है कि अगले 24 घंटे तक मानसून सक्रिय रहेगा। शुक्रवार को भी अच्छी बारिश की संभावना है। अधिकतम तापमान 31 डिग्री दर्ज किया और न्यूनतम तापमान 23 डिग्री दर्ज किया गया।

3 लाख 30 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में हुई बोवनी

जिले में इस साल खरीफ का रकबा करीब 5 लाख 8 हेक्टेयर से अधिक है। कृषि उप संचालक पीके चौकसे ने बताया कि खरीफ की करीब 66 फीसदी बोवनी हो चुकी है। इस हिसाब से 3 लाख 30 हेक्टेयर रकबे पर बोवनी हो चुकी है। फसलों की बढ़वार के लिए नियमित रूप से बारिश की जरूरत है।

हैदरगढ़ में घरों में घुसा बारिश का पानी

हैदरगढ़ में गुरुवार को सुबह से ही बारिश का दौर शुरू हुआ जो दोपहर के तेज बारिश में बदल गया। हर्रे पुरा स्थित यादव कुआ के पास नल डूब गया। कई घरों में पानी भर गया। मनोज विश्वकर्मा का कहना था कि ग्राम पंचायत ध्यान नहीं देती है। अगर सफाई हो जाती तो ऐसी नौबत नहीं आती।

विदिशा में सबसे ज्यादा, लटेरी में सबसे कम बारिश: जिले में अब तक सबसे ज्यादा बारिश विदिशा में हुई है। यहां अब तक 25.98 सेमी बारिश हुई है। जबकि सबसे कम बारिश लटेरी में 8.10 सेमी हुई है। गुलाबगंज में 15.6 सेमी बारिश हुई है। वहीं ग्यारसपुर में 15.1 सेमी बारिश हुई है।

जिले में कहां कितनी हुई बारिश

तहसील कुल पिछले

बारिश साल

विदिशा 25.98 21.67

गंजबासौदा 10.7 14.54

कुरवाई 10.94 22.01

सिरोंज 13.10 16.10

लटेरी 8.10 11.13

ग्यारसपुर 15.1 14.53

गुलाबगंज 15.6 25.7

नटेरन 13.3 25.5

कुल औसत 14.10 18.90

(स्रोत- एसएलआर कार्यालय, बारिश सेमी में)

X
5 घंटे में 5 सेमी बारिश, 16 किमी दूर भाटनी की पुिलया चढ़ने से निजी स्कूल में बच्चे फंसे
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..