• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Vidisha News
  • मनाेरा मेला परिसर में दोपहिया वाहनों तक को नहीं मिलेगी एंट्री, अलग-अलग होगी पार्किंग व्यवस्था
--Advertisement--

मनाेरा मेला परिसर में दोपहिया वाहनों तक को नहीं मिलेगी एंट्री, अलग-अलग होगी पार्किंग व्यवस्था

मानोरा मेले के आयोजन में 10 दिन से कम समय बचा है। मेले से संबंधित तैयारियों को समय सीमा में अमलीजामा पहनाने और जरूरी...

Danik Bhaskar | Jul 05, 2018, 06:00 AM IST
मानोरा मेले के आयोजन में 10 दिन से कम समय बचा है। मेले से संबंधित तैयारियों को समय सीमा में अमलीजामा पहनाने और जरूरी सुविधाओं को लेकर कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह एवं पुलिस अधीक्षक ने बुधवार को आयोजन स्थल का जायजा लेने पहुंचे। इसके साथ तैयारियों के संबंध में एक बैठक भी ली। इसमें आयोजन के दौरान की जाने वाली पेयजल, पार्किंग, सुरक्षा, चिकित्सा, बिजली, सड़क आदि व्यवस्थाओं पर विचार-विमर्श कर निर्णय लिए गए। बैठक में मुख्य रूप से तीन दिवसीय मेले में इस बार दुकानों के किराए में कोई वृद्धि न करने का निर्णय लिया गया। मेला समिति द्वारा रखे गए भगवान जगदीश स्वामी रथ यात्रा के रूट चार्ट पर चर्चा के दौरान यह निर्णय लिया गया कि संबंधित मार्ग को खुला रखने के लिए कोई भी दुकान न लगाई जाएं। लाखों लोगों की सुरक्षा के तहत पर्याप्त सुरक्षा बल की तैनाती के अलावा सीसीटीवी से नजर रखी जाएगी।

बैठक में मेले की व्यवस्थाओं से जुड़े ये हुए निर्णय: मानोरा मेला की अवधि में बिजली की आपूर्ति सतत बनी रहें इसके लिए ऊर्जा विभाग के अधिकारियों से कहा कि नियत अवधि तक कटौत्री से मुक्त रखा जाए। इसके अलावा मानोरा मेला अवधि में बिजली की सतत आपूर्ति अलग से ट्रांसफार्मर रखने का निर्णय भी लिया गया। कुछ स्थानों पर जनरेटर भी रखे जाएंगे।

मेले में श्रद्धालुओं को स्वच्छ पेयजल आपूर्ति के लिए विभिन्न स्थलों पर पानी के टैंकर रखे जाएंगे। इसके अलावा लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा मानोरा गांव के सभी हैंडपंपों व नलजल योजनाओं को दुरूस्त किया जा चुका है। क्षेत्र के पेयजल के अन्य स्रोतों में ब्लीचिंग एवं क्लोरीन डालने की कार्रवाई की जा रही है। मानोरा मेला को लेकर ग्यारसपुर की ओर से आने वाले वाहन और विदिशा की ओर से आने वाले वाहनो के लिए अलग-अलग पार्किंग स्थल चिन्हित किए जा रहे हैं। इसमें बस, ट्रैक्टर, ट्राली और दोपहिया वाहनों की पार्किंग की जगह चिन्हित की जा रही हैं। कलेक्टर ने पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों को मानोरा क्षेत्र की सड़कों की शीघ्र ही मरम्मत कार्य ठेकेदारों के माध्यम से कराने के निर्देश दिए। इसके अलावा मानोरा को जोड़ने वाली मुख्य एवं सहायक सड़कों पर भी विचार विमर्श किया गया।