--Advertisement--

मेडीकल कॉलेज में पढ़ाई की अनुमति का निर्णय कमेटी ही करेगी

विदिशा| अभी यहां केवल मेडिकल काॅलेज का ढांचा खड़ा है। चिकित्सा उपकरणों और अन्य सुविधाओं की कमी है। हमारी टीम तो...

Danik Bhaskar | Jul 14, 2018, 06:00 AM IST
विदिशा| अभी यहां केवल मेडिकल काॅलेज का ढांचा खड़ा है। चिकित्सा उपकरणों और अन्य सुविधाओं की कमी है। हमारी टीम तो केवल यहां वस्तुस्थिति का जायजा लेने आई है। मैं मेडिकल काॅलेज को अनुमति देने वाला कौन होता हूं। मैं तो केवल अपनी रिपोर्ट एमसीआई की केंद्रीय समिति को सौंप दूंगा। इस सत्र से विदिशा के नए मेडिकल काॅलेज में एमबीबीएस प्रथम वर्ष के 150 छात्रों के बैच को पढ़ाई की अनुमति मिलेगी या नहीं, इसका निर्णय कमेटी ही करेगी। यह बात एमसीआई के सदस्य डा.सीबी मोहंती ने शुक्रवार को अपनी 3 सदस्यीय टीम के साथ मेडिकल कॉलेज और हास्पिटल भवन का निरीक्षण करने के बाद दैनिक भास्कर से चर्चा में कही। उनके साथ निरीक्षण में डा.वीएन मोहंती और डाॅ.दीपा गुप्ता भी शामिल थीं। डा. मोहंती ने कहा कि मेडिकल कालेज का केवल एकेडमिक खंड तैयार किया गया है। 4 महीने के अंतराल में एमसीआई टीम का यह दूसरी बार दौरा हुआ है।

मेडिकल कॉलेज की मान्यता के लिए दिल्ली के अधिकारियों ने किया निरीक्षण।

आईसीयू में नहीं है वेंटिलेटर: एमसीआई की टीम जिला अस्पताल में करीब 3 घंटे रुकी। जहां दस्तावेजों का जायजा लिया। आईसीयू के निरीक्षण के दौरान टीम ने देखा कि वहां पर वेंटिलेटर नहीं लगा है। आपातकालीन चिकित्सा के लिए ट्रामा सेंटर की सुविधाएं उपलब्ध नहीं हैं। डीन डाॅ.डीके पाल ने बताया कि फेकल्टी, जूनियर और सीनियर डाॅक्टरों के दस्तावेजों का भी वेरीफिकेशन किया गया है।