• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Vidisha News
  • कीचड़ देख बस्ती में नहीं गए एसडीएम प्रदर्शनकारियों को सड़क पर ही बुलाया
--Advertisement--

कीचड़ देख बस्ती में नहीं गए एसडीएम प्रदर्शनकारियों को सड़क पर ही बुलाया

वनवा जागीर के ग्रामीणों ने किया हंगामा और चक्काजाम गंजबासौदा| वनवा जागीर गांव में ग्रामीणों के हंगामा और...

Danik Bhaskar | Jul 14, 2018, 06:00 AM IST
वनवा जागीर के ग्रामीणों ने किया हंगामा और चक्काजाम

गंजबासौदा| वनवा जागीर गांव में ग्रामीणों के हंगामा और चक्काजाम के बाद एसडीएम गांव तो गए लेकिन सड़कों पर कीचड़ गंदगी और गड्ढे देख गांव में जाने की हिम्मत नहीं जुटा पाए। प्रदर्शनकारी ग्रामीणों को सड़क पर ही बुलाया और उनकी समस्या सुनी वे बोले 14 जुलाई को सरपंच, सचिव, जीआरएस को भेजेंगे। शिविर में भी आऊंगा।

उनको आप सभी समस्याएं लिखित में दें। उनकी समस्याओं पर कार्रवाई की जाएगी। ग्रामीणों ने समस्याओं से परेशान होकर चार दिन पहले विधायक से लेकर तहसील के अधिकारियों को ज्ञापन सौंपा था लेकिन ग्रामीणों की समस्याओं को जानने समझने न तो विधायक निशंक जैन पहुंचे और न जिम्मेदार अधिकारी। एक दिन पूर्व ग्रामीणों ने विदिशा पहुंचकर कलेक्टर और जिला पंचायत अध्यक्ष को ज्ञापन सौंपा था। इसके बाद तत्काल राहत के रूप में जिला पंचायत अध्यक्ष ने 1 लाख रुपए की आर्थिक सहायता कच्ची सड़क पर मुरमा डालने के लिए की और कलेक्टर ने एसडीएम सीपी गोहल को मौके पर पहुंचकर ग्रामीणों की समस्याओं को जानने के निर्देश दिए थे। शुक्रवार को ग्रामीण बरसते पानी में सुबह से अधिकारियों के आने का इंतजार कर रहे थे। साथ ही अधिकारियों के इंतजार के कारण बस्ती का कोई भी मजदूर मजदूरी पर नहीं गया। शाम को जब ग्रामीणों ने जिला पंचायत को मोबाइल पर अधिकारियों के न आने की सूचना दी तब कलेक्टर ने एसडीएम को मौके पर जाने के निर्देश दिए। एसडीएम शाम को ग्रामीणों की समस्याएं सुनने पहुंचे लेकिन सड़क का हाल देखकर बस्ती में जाने की हिम्मत नहीं जुटा पाए। जहां महिलाओं ने एसडीएम का घेराव करते हुए खूब खरी खोटी सुनाई। एसडीएम ने जगदीश रथ यात्रा होते हुए भी शिविर लगाने और उसमें आने का वादा किया। इस मौके पर गुड्डीबाई, रामबाई, भागवती, जसोदा सेन, रामरती कुशवाह, इंद्र मालवीय, गोलू मालवीय, रक्कोबाई, सावित्रीबाई सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजूद थे। गांव के किसी भी ग्रामीण बस्ती को, प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री सड़क, असंगठित मजदूर, शौचालय , आवास निर्माण योजना का लाभ नहीं मिला है। इस कारण बस्ती के लोगों में आक्रोश है।