• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Vidisha
  • नीति आयोग रिपोर्ट| देश के 113 महत्वाकांक्षी जिलों की रैंकिंग जारी की, जिले को कई पैरामीटर्स में इस बार हाथ लगी निराशा
--Advertisement--

नीति आयोग रिपोर्ट| देश के 113 महत्वाकांक्षी जिलों की रैंकिंग जारी की, जिले को कई पैरामीटर्स में इस बार हाथ लगी निराशा

नीति आयोग ने देश के 113 महत्वाकांक्षी जिलों की रैंकिंग जारी कर दी है। इस बार विदिशा जिले के लिए निराशाजनक स्थिति...

Dainik Bhaskar

Jul 02, 2018, 06:05 AM IST
नीति आयोग रिपोर्ट| देश के 113 महत्वाकांक्षी जिलों की रैंकिंग जारी की, जिले को कई पैरामीटर्स में इस बार हाथ लगी निराशा
नीति आयोग ने देश के 113 महत्वाकांक्षी जिलों की रैंकिंग जारी कर दी है। इस बार विदिशा जिले के लिए निराशाजनक स्थिति देखने को मिली है। 30 जून को पैरामीटर के हिसाब से जारी की गई रैंकिंग में जिला फिसड्डी साबित हुआ है। मार्च महीने की तुलना में हम इस बार की रैंक में 33 अंक पिछड़ गए हैं। पहले हमारी रैंक 42 थी जो अब गिरकर 75 पर पहुंच गई है।

स्वास्थ्य में हमारे थोड़े हालत सुधरे हैं लेकिन शिक्षा, कृषि, वित्तीय समावेश, बेसिक इंफ्रास्ट्रक्चर में जिले का ग्राफ गिरा है। पिछली बार हम स्वास्थ्य में देश के सबसे तीन पिछड़े जिलों में 101 में से 98 रैंक पाई थी और इस बार थोड़ा सुधार हुआ है। इसलिए 113 में से 71 रैंक पाई है। पिछली बार की रैंक की तुलना में एग्रीकल्चर व वित्तीय समावेश में जिला फिसड्डी साबित हुआ है। जबकि एजुकेशन और स्किल डेवलपमेंट में भी जिले का ग्राफ गिरा है। अफसरों की मानें तो आने वाले समय में इसमें ग्रोथ होगा। चूंकि हर माह यह रैंकिंग जारी होगी।

स्वास्थ्य में सुधार पर शिक्षा, कृषि बेसिक इंफ्रास्ट्रक्चर में गिरा ग्राफ

पहले हमारी रैंक 42 थी जो अब गिरकर 75 पर पहुंच गई है

सिर्फ स्वास्थ्य में बढ़ी और बाकी सभी पैरामीटर पर घटी रैंक

हेल्थ... स्वास्थ्य के क्षेत्र में जिले को 71वां स्थान प्राप्त हुआ है। पिछले बेसलाइन रैंकिंग में जिले को पूरे देश में 98वां स्थान मिला था जो देश के सबसे तीन पिछड़े जिलों में शामिल था।

बेसिक इंफ्रास्ट्रक्चर... इस पैरामीटर में जिलों को 27वां स्थान मिला है। जबकि बेसिक इंफ्रास्ट्रक्चर में पिछली बेसलाइन रैंकिंग में 6वां स्थान मिला था।

स्किल डेवलपमेंट में बेहतर विदिशा

स्किल डेवलपमेंट में विदिशा बेहतर जिलों की सूची में शामिल है। विदिशा को पिछली बार की तुलना में 5 से 6वां स्थान मिला है। बेहतर होने के पीछे स्किल डेवलपमेंट पर किए जा रहे काम इसकी मुख्य वजह हैं। एसएटीआई के डायरेक्टर डॉ जेएस चौहान बताते हैं कि जिले में स्किल डेवलपमेंट पर काफी काम किया जा रहा है। अकेले एसएटीआई के पॉलीटेक्निक में ही 500 से ज्यादा युवाओं को ट्रेनिंग हर साल दी जा रही है। इसके अलावा जिले के आठ आईटीआई में युवाओं को ट्रेंड किया जा रहा है।

एजुकेशन... पिछली बेसलाइन रैंकिंग में जिले को 67वां स्थान मिला था। इस बार डेल्टा रैंकिंग में 85वां स्थान मिला है।

एग्रीकल्चर... एग्रीकल्चर में स्थिति बेहद बुरी है। पिछली बेसलाइन रैंकिंग में जिले को 14वां स्थान मिला था लेकिन डेल्टा रैंकिंग में 45वां स्थान मिला है।

स्किल डेवलपमेंट... इस पैरामीटर में जिले को पिछली बेसलाइन रैंकिंग में टॉप 20 में शामिल किया गया था और 5वां स्थान मिला था। इसमें मामूली गिरावट दर्ज की गई और अब 6वां स्थान मिला है।

वित्तीय समावेश... वित्तीय समावेश में पिछली बार पूरे देश में जिले को 28वां स्थान मिला था। जबकि डेल्टा रैंकिंग में 58वां स्थान है।

रैंक ने उजागर की हकीकत

नीति आयोग की जारी सूची ने जिले में विकास के दावों की पोल खोल दी। मार्च महीने के आखिरी में बैस लाइन रैंकिंग जारी की थी। उसमें विदिशा कई क्षेत्रों में पिछड़ा था। वहीं अब डेल्टा रैंकिंग में शिक्षा, कृषि, वित्तीय समावेश, बेसिक इंफ्रास्ट्रक्चर में पिछली बार से ज्यादा पिछड़ गए।

पिछली बार और अब की स्थिति

संकेतक पिछली इस बार

हेल्थ 98 71

शिक्षा 67 85

कृषि 14 45

वित्तीय समावेश 28 58

स्किल डेवलपमेंट 5 6

बेसिक इंफ्रास्ट्रक्चर 6 27

आगे प्रयास करेंगे


X
नीति आयोग रिपोर्ट| देश के 113 महत्वाकांक्षी जिलों की रैंकिंग जारी की, जिले को कई पैरामीटर्स में इस बार हाथ लगी निराशा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..