--Advertisement--

बारिश में देरी से ज

बारिश से बचने खड़े थे नीम के पेड़ के नीचे, तभी गिरी आकाशीय बिजली, एक की मौत तीन झुलसे, उधर सालेरा के बदले मार्ग पर भी...

Danik Bhaskar | Jul 12, 2018, 08:25 AM IST
बारिश से बचने खड़े थे नीम के पेड़ के नीचे, तभी गिरी आकाशीय बिजली, एक की मौत तीन झुलसे, उधर सालेरा के बदले मार्ग पर भी दो घंटे फंसी रहीं बसें


बारिश में देरी से जहां एक और धान लगाने के लिए ट्यूबवेल से गड़ों में पानी भरना पड़ रहा है, वहीं दूसरी ओर बुधवार काे हुई बारिश से परेशानियां बढ़ गई।

शाम साढ़े पांच बजे इमलिया गांव में आकाशीय बिजली गिरने से एक व्यक्ति की मौत हो गई और तीन झुलस गए। इनमें से एक को भोपाल रेफर किया गया है। वहीं दूसरी ओर कौड़ी पर अस्थाई पुलिया बह जाने के बाद से सांची का रास्ता बंद होने से बसें सालेरा मार्ग से होती हुई विदिशा जा रही हैं, लेकिन बुधवार को हुई बारिश के कारण इस रास्ते के रपटों पर भी अधिक पानी आ गया और रास्ता घंटों बंद रहा। बसें रुक गईं। वहीं शाम पांच बजे तक शहर में दो सेमी बारिश दर्ज की जा चुकी थी। इसके बाद भी रात तक बारिश की झड़ी लगी रही।

कौड़ी पर अस्थाई पुलिया बह जाने के बाद से सांची का रास्ता बंद होने से बसें सालेरा मार्ग से होती हुई विदिशा जा रही हैं,

एक की मौत तीन झुलसे

कोतवाली थाने के इमलिया गांव के पास बारिश से बचने के लिए लोग नीम के पेड़ के नीचे खड़े हो गए। साढ़े पांच बजे पेड़ पर आकाशीय बिजली गिरने से इमलिया निवासी मनाेज लाेधी पुत्र मिट्ठूलाल की मौत हो गई और धर्मसिंह लोधी, शीला बाई झुलस गईं। घायलों को एंबुलेंस से जिला अस्पताल लाया गया। यहां से धर्मसिंह को गंभीर हालत में भोपाल रेफर किया गया है। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच में लिया है।

घंटों फंसी रहीं बसें फिर वापस लौटी

कौड़ी पर मिट्‌टी की अस्थाई पुलिया बहने के बाद बसें सलोरा मार्ग से विदिशा जा रही थीं, लेकिन रास्ते में अाने वाले रपटों पर दाेपहर बाद जल स्तर बढ़ गया और विदिशा जाने का यह रास्ता भी बंद हो गया। दो से तीन घंटे तक रपटे का पानी उतरने का इंतजार करने के बाद बसें वापस रायसेन लौट आईं।

कौड़ी के कारण मार्ग बंद होने से सलेरा रोड़ पर भी रपटों ने रोके बसों के रास्ते

मौसम में आगे क्या

वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक एसके नायक के मुताबिक प्रदेश में मानसून सक्रिय हो गया है। आगामी 48 घंटे अच्छी बारिश होने की संभावना है। अधिक बारिश के चलते बाढ़ के हालत भी बन सकते हैं। रायसेन में शाम से तेज बारिश शुरू हो गई, जबकि दोपहर तक किसान अपने खेतों में ट्यूबवेल चलाकर धान के गड़े भरते देख गए।

शाम तक 20 बारिश से 30 गिरा पारा

शहर में शाम पांच बजे तक हुई दो सेमी बारिश का असर तापमान पर भी देखा गया। इसके चलते दिन के तापमान में तीन डिग्री की गिरावट दर्ज की गई है। इस गिरावट के बाद तापमान 29 डिग्री पर आ गया, जबकि एक दिन पहले ही तापमान 32 डिग्री दर्ज किया गया है।