10000 क्विंटल उपज अभी खुले में रखी है तेज बारिश हुई तो गेहूं का गीला होना तय

Vidisha News - मंगलवार सुबह नगर में हल्की बारिश हुई। इसके बाद दोपहर में धूप और शाम को एक बार फिर हल्की बारिश हुई। मौसम के इस मिजाज...

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 09:16 AM IST
Sironj News - mp news 10000 quintals yield is kept in the open now if there is heavy rains then wheat will be wet
मंगलवार सुबह नगर में हल्की बारिश हुई। इसके बाद दोपहर में धूप और शाम को एक बार फिर हल्की बारिश हुई। मौसम के इस मिजाज ने खरीदी केन्द्र संचालकों की धड़कने बढ़ा दी हैं। क्षेत्र के सभी केन्द्रों पर करीब 10 हजार क्विंटल उपज अभी खुले में पड़ी हुई है यदि तेज बारिश होती है तो इस गेहूं का गीला होना तय है।

सोमवार शाम को क्षेत्र के मौसम ने अचानक करवट बदली थी। तेज आंधी और हवा ने जनजीवन अस्तव्यस्त कर दिया था। इस बीच रात में कुछ देर बूंदाबांदी भी हुई। सारी रात आसमान में बादलों का पहरा बना रहा। मौसम का यह मिजाज मंगलवार को भी कायम रहा। सुबह से ही आसमान में घने बादल छाए दिखाई दिए। सुबह करीब 7 बजे बूंदाबांदी का सिलसिला शुरू हो गया। जो कुछ देर में हल्की बारिश में तब्दील हो गया। करीब 15 मिनट तक हल्की बारिश ने नगर को भिगोया। इससे मौसम में ठंडक हो गई। इसके बाद शाम को भी नगर में तेज हवा चली और बूंदाबांदी का दौर शुरू हो गया। मौसम का यह मिजाज आम लोगों को पसंद आया लेकिन खरीदी केन्द्र संचालकों की मुसीबत बढ़ाने वाला साबित हुआ। क्षेत्र के अधिकांश खरीदी केन्द्रों पर हजारों क्विंटल उपज खुले मैदान में रखी हुई है। इनमें खरीदा गया अनाज जो बोरियों में भरा है के साथ ही ढेर के रूप में भी किसानों का अनाज शामिल है।

जिम्मेदार बोले- बारिश से उपज को बचाने तिरपाल की व्यवस्था की जा रही है

मंगलवार सुबह नगर में हल्की बारिश हुई।

क्षेत्र में बनाए 14 खरीदी केंद्रों में से कई खेत में बनाए गए हैं

क्षेत्र में इस बार 14 खरीदी केन्द्र बनाए गए हैं। इनमें से अधिकांश खेत में अथवा खुले मैदान में बने हुए हैं। बूंदाबांदी की वजह से खुले में पड़ी हुई उपज गीली हो गई है हालांकि दोपहर में धूप निकलने से किसानों को राहत मिल गई लेकिन शाम को फिर बूंदाबांदी हुई तो केन्द्र संचालकों की मुसीबत और बढ़ गई। हाजीपुर सोसायटी के केन्द संचालक गोपालप्रसाद शर्मा ने बताया कि मैदान में करीब 6 हजार क्विंटल उपज बोरियों में भरी हुई रखी है यदि बारिश होती है तो यह उपज गीली हो जाएगी। हमने इन बोरियों के परिवहन के लिए कई बार अधिकारियों से कहा लेकिन उपज का परिवहन नहीं हो पा रहा है। समझ नहीं आ रहा अब किससे गुजारिश करें।

पगरानी स्थित केन्द्र पर बारदाने भेजे किसानों के घर

उपज की खरीदी में इस बार दबंग किसानों की मनमानी साधारण किसानों के लिए बढ़ा सिरदर्द साबित हो रही है। पगरानी स्थित खरीदी केन्द्र पर उपज लेकर आने वाले कई किसानों को तो बारदाना नहीं मिल रहा लेकिन गांव के प्रभावी किसानों के घर ले जाने के लिए बारदाना प्रदान किया जा रहा है। किसान अपने घर से ही उपज बोरों में भर कर खरीदी केन्द्र पर लेकर आ रहे है। ऐसे में वे किसान अपने आप को ठगा महसूस कर रहे हैं जो नियम से अपनी उपज खरीदी केन्द्र पर लेकर पहुंच रहे हैं। केन्द्र संचालक उन्हें बारदाना तक उपलब्ध नहीं करवा पा रहे हैं।

हमने केंद्र प्रभारियों को तिरपाल की व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं


X
Sironj News - mp news 10000 quintals yield is kept in the open now if there is heavy rains then wheat will be wet
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना