• Hindi News
  • Mp
  • Vidisha
  • Ganjbasoda News mp news agriculture market administration could not issue tender for auction of shopping complex

कृषि मंडी प्रशासन शॉपिंग कॉम्प्लेक्स की नीलामी के लिए टेंडर जारी नहीं कर पाया

Vidisha News - भास्कर संवाददाता | गंजबासौदा कृषि मंडी द्वारा स्टेशन मार्ग पर बनाया गया शॉपिंग कॉम्पलेक्स बिना उपयोग के जर्जर...

Nov 10, 2019, 07:46 AM IST
भास्कर संवाददाता | गंजबासौदा

कृषि मंडी द्वारा स्टेशन मार्ग पर बनाया गया शॉपिंग कॉम्पलेक्स बिना उपयोग के जर्जर हालत में पहुंचता जा रहा है । इस शॉपिंग कांप्लेक्स का निर्माण नौ साल पहले कराया गया है। लेकिन आज तक न तो उसको किराए पर दिया जा रहा है, न उसे ठेके पर दिया जा रहा। जिस दिन से बना है, भवन की सफाई पुताई तक नहीं कराई गई। जगह-जगह प्लास्टर चटकने लगा है। लोहे की जालियां जंग खा चुकी हैं।

नौ साल पुराना यह भवन अब देखने से तीन दशक पुराना जैसा दिखाई देने लगा है। कृषि मंडी प्रशासन कॉम्प्लेक्स की दुकानें नीलाम करने के लिए टेंडर जारी करने की बात पिछले आठ साल से कह रही है। लेकिन आज तक उस दिशा में कार्रवाई नहीं की, जबकि उसका उपयोग व्यापारिक तौर पर किया जा रहा है।

सफाई-पुताई तक नहीं हुई, दीवारों में अाने लगीं दरारें, जालियां जंग खा चुकीं

भवन का रंग आज भी है लाल ही

पांच दशक पहले यहां कृषि मंडी का कार्यालय था। जो लाल बिल्डिंग के नाम से जाना जाता था। पुराने भवन की याद बनी रहे। इसी कारण शॉपिंग कांप्लेक्स का रंग भी लाल रखा गया है। लाल बिल्डिंग शॉपिंग कॉम्प्लेक्स का निर्माण नेहरु चौक के समीप भूकंपरोधी ड्राइंग व डिजाइन पर आधारित है। इसकी डिजाइन का अनुमोदन मुख्य अभियंता मंडी बोर्ड द्वारा किया गया है। ड्राइंग और डिजाइन के कारण इसका कार्य एक साल तक लटका रहा था। शासकीय सेक्टर का यह पहला चार मंजिला शॉपिंग कॉम्प्लेक्स है। इसके भूतल पर दुकानें बनाई गई हैं। दूसरे तल पर ऑफिस, शेष तल आवासीय बनाए गए हैं।

9 साल बाद भी नही हुई कृषि मंडी भवन की नीलामी।

नीलामी की प्रोसेस में ला दिया है


60 लाख रुपए खर्च आया था

कृषि उपज मंडी समिति ने नौ साल पहले चार मंजिल वाले शॉपिंग कॉम्पलेक्स निर्माण का प्रस्ताव 58.50 लाख रुपए का रखा था। लेकिन सालभर में सीमेंट, लोहे और रॉ मटेरियल की बढ़ी दरों के कारण इसकी लागत बढ़ गई है। जिले में यह पहला अत्याधुनिक कॉम्पलेक्स है। इसमें आने जाने के लिए लिफ्ट की सुविधा प्रस्तावित थी। किंतु अभी लिफ्ट नहीं लगाई गई हैं। सीढ़ियों का उपयोग ऊपर आने जाने किया जाता है।

कागजों में खाली, लेकिन किराए पर दे रखा

मंडी के कागजों में इसे खाली दर्शाया जा रहा है। लेकिन मौके के हालात देखते हुए। उसका उपयोग व्यापारिक गोदाम के रूप में किया जा रहा है। इसी के कारण उसकी शॉपों को नीलाम करने में कोताही दिखाई जा रही है। इससे मंडी को आय का नुकसान हो रहा है। दूसरी तरफ भवन जर्जर होता जा रहा है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना