भारतीय संस्कृति सीखना मेरे लिए एक नया जन्म जैसा ही है: विलू

Vidisha News - भारतीय संस्कृति सीखना एक तरह से मेरे लिए एक नया जन्म है। यहां मुझे अभी काफी कुछ सीखना है। मैं यहां की परंपराओं और...

Feb 22, 2020, 09:20 AM IST
Sironj News - mp news learning indian culture is like a new birth for me villu

भारतीय संस्कृति सीखना एक तरह से मेरे लिए एक नया जन्म है। यहां मुझे अभी काफी कुछ सीखना है। मैं यहां की परंपराओं और रीति-रिवाज के प्रति बहुत उत्साहित हूं। यह कहना है कि जर्मनी से बहू विलू का। दरअसल भौंरिया गांव में रहने वाले शिक्षक चोखेलाल भावसार और नीलू के पुत्र साइंटिस्ट बृजकिशोर जासल की जर्मन प|ी इंटरनेशनल लायर विलू का 16 फरवरी को विवाह के बाद पहला जन्मदिन सिरोंज की श्रीकृष्ण गोशाला में मनाया गया।

उनके साथ सिरोंज में मौजूद जर्मनी और स्पेन से आए 15 मेहमानों ने भी गोशाला में पहुंच कर गो सेवा की। ये लोग करीब दो घंटे तक गोशाला परिसर में ही रुके रहे। विलू के साथ आए कई मेहमान 3 दिन से मप्र के पर्यटन स्थलों का भ्रमण कर गुरुवार रात को सिरोंज लौटे थे। वे सभी शुक्रवार सुबह विलू का जन्मदिन मनाने के लिए लटेरी रोड पर स्थित श्रीकृष्ण गोशाला में पहुंचे। गोशाला में गाय की पूजा करने के बाद विलू ने यहां बने हाल में मावे से बना केक भी काटा। जन्मदिन मनाने के संबंध में बृजकिशोर का कहना था कि वर्ष 2018 में जब विलू सिरोंज आई थी तब गाय पर रिसर्च कर रही अपनी सहेली आर्निका के साथ गोशाला भी गई थी। इसके बाद से ही वह गोशाला जाने को उत्सुक थी।

स्पेनिश भाषा में रामचरित सचित्र है जो कि मैं पढ़ चुकी हूं

जर्मनी और स्पेन के मेहमानों के गोशाला में आने से उत्साहित प्रबंधन ने सभी अतिथियों का स्वागत भी किया। इस दौरान विधायक उमाकांत शमा ने विलू को जन्मदिन के तोहफे में रामचरित मानस भेंट करते हुए ही ग्रंथ की विशेषता बनाई। विलू ने अपने अनुवादक पति बृजकिशोर के माध्यम से तोहफे पर अपनी खुशी जाहिर करते हुए बताया कि रामचरित मानस हमारे यहां भी है लेकिन वह स्पेनिश भाषा में सचित्र है। उनके ग्रांड फादर ने दी थी जिस मैं पढ़ चुकी हूं।

हमने अपनी बेटी भारत में दी है, आप पर्यावरण सुधार की दिशा में भी काम करें: विलू के पिता

विधायक उमाकांत शर्मा ने उन्हें गोशाला परिसर का भ्रमण करवाते हुए पर्यावरण संरक्षण के लिए किए गए प्रयासों की जानकारी दी। विलू के पिता वान बिबर्सटाइन ने विधायक से पूछा कि क्या भारत में किसी राजनीतिक दल ने अपनी नीति और उद्देश्यों में पर्यावरण सुधार की दिशा में कार्य करने को शामिल किया है। विधायक ने कहा कि अभी तक तो नहीं है लेकिन जर्मनी और भारत मिलकर एक साथ इस दिशा में काम कर सकते है। वान ने जवाब दिया हमनें अपनी बेटी भारत में देकर इसकी शुरुआत कर दी है और अब इस दिशा में आप कदम उठाएं।

X
Sironj News - mp news learning indian culture is like a new birth for me villu

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना