नल कनेक्शन देने जगह-जगह किए गड्ढे, न नगर पालिका करा रही मरम्मत न उपभोक्ता

Vidisha News - भास्कर संवाददाता | गंजबासौदा जल आवर्धन कनेक्शनों के नागरिकों से रुपए वसूलने के बाद भी नगर पालिका गलियों और...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 07:20 AM IST
Ganjbasoda News - mp news no place to replace tap connections no municipal repairs no consumer
भास्कर संवाददाता | गंजबासौदा

जल आवर्धन कनेक्शनों के नागरिकों से रुपए वसूलने के बाद भी नगर पालिका गलियों और सड़कों पर खोदे गए गड्ढों और नालियों की मरम्मत नहीं करा रही है। बारिश से गलियों में कीचड़ हो रहा है। गड्ढों में पानी भर रहा है।

इन दिनों पूरे शहर में उपभोक्ताओं को नई जल आवर्धन योजना से जोड़ने के लिए कनेक्शन दिए जा रहे हैं। इससे जगह जगह गड्ढे किए जा रहे हैं। कनेक्शन देने के बाद गड्ढों को मिट्टी से बंद करने के बाद छोड़ा जा रहा है। जहां जल आवर्धन योजना की पाइप लाइन नहीं है। वहां पाइप लाइन बिछाने के बाद उसकी सीमेंट कंक्रीट से मरम्मत नहीं कराई जा रही है। इससे बारिश का पानी गड्ढों और गलियों में जमा हो रहा है। नागरिकों को आने जाने में समस्या आ रही है।

मरम्मत उपभोक्ताओं को कराना है




जल आवर्धन योजना के तहत बिछाई गई है नई पाइप लाइन, जो बन रही है मुसीबत का कारण

गड्ढे की मरम्मत का भार उपभोक्ता पर थोपा

नगर पालिका ने पुरानी जल योजनाएं बंद कर दी हैं। उसके स्थान पर नई योजना प्रारंभ की है। नए उपभोक्ताओं के साथ पुराने उपभोक्ताओं को भी नई सप्लाई लाइन से जोड़ने का लक्ष्य रखा है। नगर में पुराने 3500 जल उपभोक्ता है। इतने ही नए उपभोक्ताओं को जोड़ना है। इसके लिए नए और पुराने उपभोक्ताओं से धरोहर, कनेक्शन सहित सड़क मरम्मत की राशि पहले ही जमा कराई जा रही थी। लेकिन बाद में संशोधन कर गड्ढे की मरम्मत उपभोक्ता का डाल दी। अभी भी सप्लाई लाइन से कनेक्शन देने का क्रम जारी है। अब तक 5000 हजार कनेक्शन दिए जा चुके हैं। इससे गलियों में और मुख्य मार्गों पर जगह जगह गड्ढे हो रहे हैं।

नहीं कराई जा रही मरम्मत

नियमानुसार कनेक्शन देने के बाद नगर पालिका को तत्काल गड्ढे की मरम्मत कराना चाहिए। इससे की सड़क पर आवागमन में समस्या न आए। लेकिन ठेकेदार कनेक्शन देने के बाद गड्ढे को उसी मटेरियल से भरकर छोड़ रहा है। इससे पानी से मटेरियल धंस जाता है, वहां गड्ढों में वर्षा का पानी भरा रहता है। मिट्टी सड़क पर आने से कीचड़ फैल जाती है। इससे नागरिकों को आने जाने में परेशानी आ रही है।

60 प्रतिशत गलियों की हालत खराब

शहर में 60 प्रतिशत गलियों की हालत खराब है। इन गलियों में आठ से दस साल पहले सीसी करण किया गया था। अब वह जर्जर हालत में पहुंच गई है। नगर पालिका ने गलियों की मरम्मत नहीं कराई है। इससे पहले से नागरिक परेशान हैं। अब गलियों में फिर से गड्ढे खोदे जाने से सड़कों की हालत बदतर होती जा रही है। इससे नागरिकों में नपा की कार्यशैली को लेकर गुस्सा बढ़ रहा है। यहां तक कि नई गलियों की खुदाई होने से लोग सीसी का उपयोग सही ढंग से तक नहीं कर पा रहे।

आरोप... सड़कें भी जर्जर होने से बच सकती थीं

दो साल पहले 1 करोड़ 19 लाख की लागत से मील रोड़ का सीसी करण कराया गया था। इसके लिए भी नागरिकों को लंबी लड़ाई लड़ना पड़ी थी। पूरे शहर में यही एक मात्र सड़क नगर पालिका क्षेत्र में अच्छी है लेकिन अब उसमें भी गड्ढे करना शुरू कर दिया है। नागरिकों का आरोप है कि जब पाइप लाइन डाली जा रही थी, उसी समय यह कार्य क्यों नहीं कराया गया। इससे सड़कें भी जर्जर होने से बच सकती थीं। यदि गलियों की तरह यहां भी मरम्मत में लापरवाही की जा रही है। यातायात में समस्या आ रही है। मील रोड़ मार्केट में बदल चुका है। अब तक दर्जनों दुकानें और शोरूम इस मार्ग पर स्थापित हो चुके हैं।

राशि की कमी... सड़क निर्माण के लिए लाले पड़े

पिछली परिषद ने चार करोड़ रुपए छोड़े थे, उसी राशि के चलते कुछ गलियों व सड़कों के निर्माण हुए लेकिन वर्तमान परिषद में फिलहाल सड़कों और गलियों का ज्यादा सीसी करण नहीं हो पाया। नालों का ज्यादा निर्माण कराया गया। इससे नागरिक व पार्षदों में खासा रोष है। इससे नागरिकों को आशंका है कि गलियों की मरम्मत हो पाएगी या नहीं। नपा सड़क मरम्मत की राशि उपभोक्ताओं से ले रही है, लेकिन मरम्मत पर ध्यान नहीं दे रही।

X
Ganjbasoda News - mp news no place to replace tap connections no municipal repairs no consumer
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना