• Hindi News
  • Mp
  • Vidisha
  • Ganjbasoda News mp news public works have been entrusted to improve the condition of bypass roads improve the work

बायपास सड़कों की हालत खराब, सुधारने का जिम्मा लोक निर्माण नपा को सौंप चुका है

Vidisha News - भास्कर संवाददाता | गंजबासौदा अति वर्षा से शहर की सभी बायपास सड़कें गड्ढों में तब्दील हो चुकी हैं। एक साल पहले नपा...

Oct 13, 2019, 07:21 AM IST
भास्कर संवाददाता | गंजबासौदा

अति वर्षा से शहर की सभी बायपास सड़कें गड्ढों में तब्दील हो चुकी हैं। एक साल पहले नपा क्षेत्र की इन सड़कों को लोनिवि ने स्मार्ट सिटी योजना के तहत हस्तांतरित कर दी थी। इसके चलते अब इन सड़कों की मरम्मत और निर्माण से लोनिवि ने पल्ला झाड़ लिया है। एक साल से इनका रख रखाव न होने से हालत खराब थी। लेकिन बारिश के दौरान कदम कदम पर गड्ढे उभर आए हैं। दूसरी तरफ इनके निर्माण को लेकर अनिश्चितता की स्थिति बनी हुई है।

स्मार्ट सिटी योजना के तहत इन बायपास सड़कों का निर्माण अधर में अटका है। योजना के पहले चरण के कार्यों का दसवां हिस्सा एक साल बाद पूरा नहीं हो पाया। सड़कों का निर्माण कब होगा इस पर जनप्रतिनिधि भी चुप्पी तोड़ने तैयार नहीं हैं। दूसरी तरफ गड्ढों में बदल चुकी यह सड़कें ट्रैफिक के लिए समस्या बनी हुई हैं।

बारिश से सड़कों की खराब हालत को लेकर ट्रांसपोर्ट यूनियन और बस ऑपरेटरों में गुस्सा

अधिकारी भी मानते हैं बायपास मार्गों की हालत खराब

तहसील के बायपास मार्गों की दुर्दशा पर नागरिकों में गुस्सा था। लेकिन अब अधिकारियों भी मानने लगे हैं बायपास सड़कों की हालत चिंताजनक है। अधिकारी बड़ी मजबूरी में ही इन बायपास सड़कों से आना जाना पसंद करते हैं। वर्ना कर्मचारियों को जिम्मेदारी सौंप कर पल्ला झाड़ लेते हैं। तहसील के सभी बायपास सड़कों की हालत बेहद खराब हो चुकी है। दूसरी तरफ सड़कों की खराब हालत को लेकर ट्रांसपोर्ट यूनियन और बस ऑपरेटरों में खासा गुस्सा है। उनका गुस्सा कभी भी सड़कों पर आ सकता है।

गड्ढों में बदल गए सारे बायपास

तहसील के चारों बायपास मार्गों की हालत खराब है। जय स्तंभ से तिरंगा चौक, बरेठ रोड़ से हरदू खेड़ी फाटक, राजेंद्र नगर से गुरोद, त्योंदा रोड से कर्मा चौराहा, लोहा मील से पचमा रोड के बीच बनी बायपास सड़कों का अधिकांश भाग गड्ढों में बदल चुका है। यह नगर की महत्वपूर्ण बायपास सड़कें हैं। इन पर वाहनों का चलना दूभर हो रहा है। कदम-कदम पर गड्ढे होने से दुर्घटना का खतरा रहता है।

एक साल से मेंटेनेंस बंद

एक साल से लोनिवि ने इन सड़कों का मेंटेनेंस बंद कर रखा है। पहले गड्ढों में गिट्टी और चूरी डालती रहती थी। लेकिन अब मेंटेनेंस न होने से बारिश में छोटे-छोटे गड्ढे भी फैलकर बड़े हो चुके हैं। बारिश थमने के बाद भी गड्ढों में पानी भरा हुआ है। चालक को पानी के कारण गड्ढे की गहराई समझ नहीं आती। समझ उस समय आती है जब उसमें तेज झटका लगता है, वाहन पर नियंत्रण मुश्किल हो जाता है।

शासन को नहीं भेजा था प्रस्ताव

स्मार्ट सिटी योजना के तहत सड़कों को सौंपने के बाद लोनिवि निर्माण का प्रस्ताव शासन को नहीं भेजा। जैसे तैसे वर्तमान स्थिति में तिरंगा चौक से जय स्तंभ, कुमुद पैलेस से हरदू खेड़ी फाटक, हरदू खेड़ी फाटक तक स्मार्ट सिटी योजना के तहत निर्माण को मंजूरी मिली थी। लेकिन एक साल बाद भी निर्माण को लेकर असमंजस के हालात है। इससे समस्या जटिल हो रही है।

ट्रांसपोर्ट यूनियन और ऑपरेटरों में गुस्सा

तहसील अनाज और पत्थर की बड़ी मंडियां हैं। ट्रांसपोर्ट का कारोबार ट्रकों पर ही निर्भर है। खराब सड़कों के कारण बाहर के ट्रक नगर में आने से कतराते हैं। ट्रांसपोर्ट संघ के अध्यक्ष अरविंद कुमार जैन ने बताया सड़कों की दुर्दशा से व्यापार चौपट हो रहा है। बस ऑपरेटरों का कहना है आमदनी से ज्यादा वाहनों में काम निकलता है, कभी टायर खराब होते हैं, तो कभी वाहनों में काम निकलता है।


X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना