• Hindi News
  • Mp
  • Vidisha
  • Vidisha News mp news the first chariot for ramleela was built in 1988 and now another chariot was ordered from ujjain which is decorated with two horses

रामलीला के लिए पहला रथ 1988 में बनवाया था अब एक और रथ उज्जैन से मंगाया, जो दो घोड़ों से सजा है

Vidisha News - रामलीला में बुधवार को सुबह 11 बजे वैत्रवती के चरणतीर्थ घाट पर गंगा दर्शन का कार्यक्रम हुआ। इसमें श्री रामलीला मेले...

Jan 16, 2020, 09:51 AM IST
Vidisha News - mp news the first chariot for ramleela was built in 1988 and now another chariot was ordered from ujjain which is decorated with two horses
रामलीला में बुधवार को सुबह 11 बजे वैत्रवती के चरणतीर्थ घाट पर गंगा दर्शन का कार्यक्रम हुआ। इसमें श्री रामलीला मेले से श्रीराम, लक्ष्मण और जानकीजी के स्वरूपों को पालकी पर बैठाकर बैंडबाजों के साथ बेतवा के घाट पर ले जाया गया। यहां भगवान के स्वरूपों की आरती की गई। इस दौरान मेला समिति और लीला दर्शन समिति के पदाधिकारी मौजूद थे। बेतवा तट पर पंडितों ने विधि-विधान से गंगा पूजन करवाया। इसके बाद सभी श्रद्धालुओं ने भगवान के पैर पखारे। वहीं शाम को मेले में नारद मोह की लीला का मंचन हुआ। इसमें देवर्षि नारद जब भगवान विष्णु के पास जाकर विश्व मोहिनी से विवाह की इच्छा जताते हैं तो भगवान विष्णु उन्हें वानर का रूप प्रदान कर देते हैं। वानर का रूप होने के कारण राजकुमारी नारदजी का वरण नहीं करती हैं। इससे कुपित होकर नारदजी भगवान विष्णु को श्राप दे देते हैं।

रामलीला के लिए मिला नया रथ।

पहले चलता था तांगा, अब हो गए 3 रथ

श्री रामलीला मेले के लिए इस साल एक नया रथ मिल गया है। यह रथ उज्जैन में बना है। इसके पहले दो रथ पुराने हैं। ऐसे कुल तीन रथ हो गए हैं। श्रीरामलीला में साल 1988 के पहले तांगा पर चक्कर लगाए जाते थे, लेकिन 1988 में पहला रथ बनवाया गया था, तब से तांगा का चलन खत्म हो गया। इसके बाद रावण दल के लिए अलग से रथ की जरूरत लगने पर दूसरा रथ 10 साल बाद 1998 में विदिशा में ही तैयार कराया गया था। इस पर अब रावण दल के चक्कर लगाए जाते हैं।

X
Vidisha News - mp news the first chariot for ramleela was built in 1988 and now another chariot was ordered from ujjain which is decorated with two horses
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना