--Advertisement--

इको फ्रेंडली गणेश / हमारी आस्था के साथ खिलवाड़ न हो, इसलिए हर घर सिर्फ मिट्‌टी के ही गणेश की हो स्थापना



Danik Bhaskar | Sep 12, 2018, 09:31 AM IST

आस्था के साथ खिलवाड़ का एक गंभीर मामला हाल ही में सामने आया है। गुजरात के जूनागढ़ में भास्कर ने एक स्टिंग ऑपरेशन किया जिसमें पता चला कि प्लास्टर ऑफ पेरिस से बनी और विसर्जित की गई गणेश प्रतिमाओं को आधी कीमत पर पुन: बाजार में लाया जा रहा है। प्रतिमाओं को तालाब, नदी से इकट्ठा करके दोबारा रंग-रोगन कर बेचा जाता है।


ऐसे मामलों पर हम आसानी से रोक लगा सकते हैं। यदि पीओपी की जगह मिट्‌टी से बनी प्रतिमाओं की स्थापना की जाए तो हमारी आस्था के साथ फिर कभी खिलवाड़ नहीं होगा।


गणेशचतुर्थी पर पूरे हर्षोल्लास, भक्ति और धूमधाम के साथ सिर्फ मिट्‌टी के गणेश घर लाने के निवेदन के साथ दैनिक भास्कर हर साल ‘मिट्‌टी के गणेश’ अभियान चला रहा है। इस वर्ष भी आपसे आग्रह है कि अपने घर में मिट्‌टी से बने गणेशजी की ही स्थापना करें और फिर घर में ही किसी पात्र में गणेशजी का विसर्जन कर मिट्‌टी को गमले में डालकर पौधा लगा दें। इस तरह हमारे गणेशजी का पूर्ण विसर्जन हो सकेगा और जूनागढ़ जैसे मामले भी दोबारा सामने नहीं आ सकेंगे।


गणेशचतुर्थी की शुभकामनाएं- भास्कर परिवार

(मिट्‌टी के गणेश के साथ अपनी सेल्फी 9039090096 नंबर पर वॉट्सएप करें। चयनित सेल्फी को भास्कर और हमारे सोशल मीडिया पेजेस पर प्रकाशित किया जाएगा।)

--Advertisement--