दैनिक भास्कर के समूह संपादक कल्पेश याग्निक नहीं रहे, दिल का दौरा पड़ने से निधन; इंदौर में हुआ अंतिम संस्कार

प्रति शनिवार दैनिक भास्कर के अंक में प्रकाशित होने वाला उनका कॉलम असंभव के विरुद्ध देशभर में चर्चित था

Bhaskar News| Last Modified - Jul 13, 2018, 08:00 PM IST

Bhaskar group editor Kalpesh Yagnik  passed away
दैनिक भास्कर के समूह संपादक कल्पेश याग्निक नहीं रहे, दिल का दौरा पड़ने से निधन; इंदौर में हुआ अंतिम संस्कार

इंदौर.  दैनिक भास्कर के समूह संपादक कल्पेश याग्निक नहीं रहे। गुरुवार रात करीब साढ़े 10 बजे इंदौर स्थित दफ्तर में काम के दौरान उन्हें दिल का दौरा पड़ा। तत्काल उन्हें बॉम्बे हॉस्पिटल ले जाया गया। करीब साढ़े तीन घंटे तक उनका इलाज चला, लेकिन तमाम प्रयासों के बाद भी उनकी स्थिति में सुधार नहीं हुआ। डॉक्टरों के मुताबिक, इलाज के दौरान ही उन्हें दिल का दूसरा दौरा पड़ा। रात करीब 2 बजे डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। शुक्रवार को इंदौर में उनका अंतिम संस्कार किया गया। भाई नीरज याग्निक ने मुखाग्नि दी।

21 जून 1963 को जन्मे कल्पेशजी 1998 से दैनिक भास्कर समूह से जुड़े थे। 55 वर्षीय याग्निक प्रखर वक्ता और देश के विख्यात पत्रकार थे। वे पैनी लेखनी के लिए जाने जाते थे। देश और समाज में चल रहे संवेदनशील मुद्दों पर बेबाक और निष्पक्ष लिखते थे। प्रति शनिवार दैनिक भास्कर के अंक में प्रकाशित होने वाला उनका कॉलम ‘असंभव के विरुद्ध’ देशभर में चर्चित था। उनके परिवार में मां प्रतिभा याग्निक, पत्नी भारती, बड़ी बेटी शेरना, छोटी बेटी शौर्या, भाई नीरज और अनुराग हैं।

लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने ट्वीट किया, ‘‘श्रीलंका के दौरे से आज लौटी ही थी कि श्री कल्पेश याग्निक जी के नहीं रहने का हृदयविदारक एवं दुखद समाचार प्राप्त हुआ। सोच विचार के साथ टिप्पणी, सुधि लेकिन प्रखर भाषा, विषय की गहराई तक पहुंचकर स्पष्टता से अपनी बात लिखना, इसमें कल्पेश जी का अपना एक खास स्थान था।’’ 

 

शाह ने कहा- कल्पेशजी का जाना अपूरणीय​ क्षति: भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने ट्वीट किया- "कल्पेशजी ने पत्रकारिता के क्षेत्र में उच्च आदर्श स्थापित किए, उनका निधन एक अपूरणीय क्षति है। मैं उनके शोकाकुल परिवार के प्रति अपनी संवेदनाएं वक्त करता हूं।" मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट किया, "बेबाक लेखन के पर्याय वरिष्ठ पत्रकार कल्पेश याग्निक को श्रद्धांजलि। राष्ट्रभक्ति के दृढ़ संकल्प से सिंचित प्रखर विचारों से आप हमारे दिल में अमर रहेंगे। ईश्वर से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्मा को शांति और परिजनों को पीड़ा की इस घड़ी में संबल प्रदान करें।" राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा, ''पत्रकारिता जगत में अपनी लेखनी से उच्च आदर्श स्थापित करने वाले कल्पेशजी का निधन अपूरणीय क्षति है।'' उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, "कल्पेशजी के निधन की दुखद सूचना प्राप्त हुई। ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शांति की प्रार्थना करता हूं।" छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह, झारखंड के मुख्यमंत्री रघुबर दास, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर और उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या ने भी कल्पेशजी के निधन को अपूरणीय क्षति बताया। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने ट्वीट किया, ‘‘श्री कल्पेश याग्निक का असामयिक निधन पत्रकारिता जगत, भास्कर पत्र समूह एवं परिजनों के लिए अपूरणीय क्षति है।’’

 

'कल्पेशजी ने अमिट छाप छोड़ी': कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने ट्वीट किया, "दैनिक भास्कर के ग्रुप एडिटर और जाने माने पत्रकार कल्पेश याग्निक नहीं रहे। मेरे अच्छे परिचित थे। वे अच्छे पत्रकार थे। मेरी उन्हें श्रद्धांजलि। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे और परिवार को यह शोक सहने की शक्ति दे।" कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्वीट किया, ‘‘निर्भीक और विख्यात पत्रकार श्री कल्पेश याग्निक जी का निधन पत्रकारिता के क्षेत्र में एक अपूरणीय क्षति है। अपनी लेखनी से समाज में अमिट छाप छोड़ने वाले कल्पेश जी को मेरी विनम्र श्रद्धांजलि।’’ राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता अशोक गहलोत ने कहा, “कल्पेश याग्निक की असामयिक मृत्यु से दुख पहुंचा। उनके परिवार और दोस्तों के लिए मेरी हार्दिक संवेदना।" 

 

‘जनता को सजग बनाने में कल्पेशजी का अहम योगदान’ : केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन राठौड़ ने कहा, ‘‘पत्रकारिता के सिद्धांतों को नई ऊंचाई पर ले जाने वाले याग्निक जी ने देश की जनता को सजग बनाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। ईश्वर उनके परिवार को इस शोक से उबरने की शक्ति दे।’’ कवि कुमार विश्वास ने कहा, ‘‘भास्कर के समूह संपादक कल्पेश याग्निक जी के निधन का दुःखद समाचार मिला। यह मेरे लिए निजी और अपूरणीय क्षति है। सशक्त पत्रकार कल्पेशजी ने सदा छोटे भाई की तरह स्नेह दिया। 'महाभारत 2019' श्रृंखला लिखने के लिए उन्होंने ही मुझे आदेशित किया था।’’

 

इन्होंने भी दी श्रद्धांजलि : वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, अर्जुन राम मेघवाल, डॉ. हर्षवर्धन, धर्मेंद्र प्रधान और मनोज सिन्हा, भाजपा सांसद रमेश पोखरियाल, मध्य प्रदेश के मंत्री भूपेंद्र सिंह, डाॅ. नरोत्तम मिश्रा, माया सिंह और पारस जैन, राजस्थान विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी, मध्य प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह, कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला, फिल्म डायरेक्टर अशोक पंडित ने भी कल्पेशजी को श्रद्धांजलि दी।

Topics:
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now