विज्ञापन

Alert : इन 8 ट्रेनों में सफर करने से पहले हो जाएं सावधान, इनमें सबसे ज्यादा लुटे यात्री, चोर ट्रेन से ले उड़े 6 करोड़ से ज्यादा का माल

Dainik Bhaskar

Mar 17, 2019, 11:17 AM IST

चोर फर्स्ट क्लास का टिकट लेकर बैठते हैं ट्रेन में, जानें किन स्टेशनों पर है सबसे ज्यादा खतरा

theft in train indian railways
  • comment

न्यूज डेस्क। रेलवे का मुंबई मंडल चोरी जोन बन गया है। इस जोन में पिछले 9 महीने में 435 चोरियां हुई। सबसे ज्यादा चौंकाने वाले आंकड़े सूरत से वडोदरा के बीच के हैं। इनके बीच आठ स्टेशन और 8 ट्रेनें यात्रियों के लिए खतरा बन गई हैं। इन्हीं स्टेशनों और इन्हीं ट्रेनों में सबसे ज्यादा यात्रियों के सामान चोरी होते हैं। पूरे पश्चिम रेलवे की बात करें तो सितंबर तक चलती ट्रेनों और स्टेशनों पर चोरी के कुल 1,119 मामले दर्ज हुए हैं। पिछले साल की अपेक्षा इस साल चलती ट्रेनों और रेलवे स्टेशनों पर दोगुने चोरी के मामले सामने आए।

6 करोड़ से ज्यादा का माल ले उड़े
- अक्टूबर में सूरत स्टेशन पर सरेआम लोगों से छिनैती के 10 से अधिक मामले आए। चोरी रोकने के लिए गठित टॉप बी टीम चोरी और छिनैती रोकने में नाकाम रही है। मामलों के डिटेक्शन में भी रेलवे पुलिस को ज्यादा सफलता नहीं मिली है।

- इन वारदातों में चोर भी अपनी मॉडस ऑपरेंडी बदल रहे हैं। कई मामलों में चोर प्रथम श्रेणी का टिकट खरीद कोच में बैठते हैं और यात्रा के दौरान सामान चोरी करके उतर जाते हैं।

- पश्चिम रेलवे के अधिकार क्षेत्र में 2017 में जनवरी से सितंबर तक चोरियों के कुल 1,561 मामले रजिस्टर हुए थे। चोर कुल 6 करोड़ 57 लाख 62 हजार रुपये का माल ले उड़े। इनमें केवल 168 केस डिटेक्ट हुए हैं। 19 लाख का सामान ही मिल सका।

इन 8 स्टेशनों पर ज्यादा चोरियां
नंदुरबार, चलथाण, भेस्तान, उधना, सूरत, कीम, भरूच, वडोदरा

ये 8 ट्रेनें जिनमें सबसे ज्यादा लुटे यात्री
उदयपुर सिटी, अगस्तक्रांति, अहमदाबाद-पुरी, मुंबई-जयपुर, इंदौर-पुणे, सौराष्ट्र जनता, सूर्यनगरी पश्चिम एक्सप्रेस

चलती ट्रेन में 9 माह में 1119 चोरी

मंडल केस डिटेक्शन सामान (रु.) रिकवरी गिरफ्तारी
मुंबई 435 87 1,02,653,524 1,121,840 114
वडोदरा 226 26 34,810,121 5,24,679 28
अहमदाबाद 199 26 8,274,993 402430 31
रतलाम 230 24 9,083,762 6,35,340 39
राजकोट 22 9 6,32,438 1,22,940 9
भावनगर 7 2 1,19,134 9,000 2
कुल 1119 174 1,55,573,972 3,816,229 223

स्टेशन पर जनवरी से अब तक 192 चोरी

मंडल केस डिटेक्शन सामान (रु.) रिकवरी गिरफ्तारी
मुंबई 37 16 6,35,507 2,49,549 18
वडोदरा 14 10 2,02,040 89,530 11
अहमदाबाद 57 25 1,221,128 3,65,230 26
रतलाम 74 13 1,268,130 1,74,1703 13
राजकोट 10 6 2,31,190 49,200 8
भावनगर 0 0 0 0 0
कुल 192 70 3,557,995 9,27,679 76

मुंबई और वडोदरा डिवीजन में रुक नहीं चोरी

- पश्चिम रेलवे के कुल 6 डिवीजन में से केवल मुंबई और वड़ोदरा डिवीजन में पिछले साल 953 चोरियों के केस रजिस्टर हुए। ये सभी वारदात चलती ट्रेनों में हुई थीं।

- इस वर्ष सितंबर तक मुंबई और वडोदरा डिवीजन में 661 चोरियां हुई हैं। इनमें से वड़ोदरा डिवीजन में 226 केस रजिस्टर हुए हैं, जो पिछले वर्ष 474 थे। वड़ोदरा डिवीजन की सबसे ज्यादा चोरियां रात में होती हैं।


चोरी एक हजार से ज्यादा, लेकिन केस डिटेक्शन सिर्फ 244 ही हुआ

- केस डिटेक्शन का काम जीआरपी का होता है, लेकिन वह इस काम में फेल साबित हुई है। इस साल पश्चिम रेलवे में सितंबर तक चलती ट्रेन में और स्टेशनों पर 1,311 चोरी के मामले दर्ज किए गए। इनमें सिर्फ 244 का ही डिटेक्शन हुआ।

- चोर यात्रियों के 15 करोड़ 91 लाख 31 हजार 9 सौ 68 रुपए के सामान चुरा ले गए। 4,743,908 रुपए के सामान वापस मिले और 299 लोगों को गिरफ्तार किया गया। चोर पिछले साल के मुकाबले ढाई गुना माल ले उड़े।

- इस साल सितंबर तक पश्चिम रेलवे क्षेत्र में चलती ट्रेनों में चोरों ने लगभग 15 करोड़ 56 लाख रुपए के सामान चोरी कर लिए। इनमें से लगभग 38 लाख रुपए का सामान ही मिल सका है।

X
theft in train indian railways
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन