• Home
  • National
  • Rahul Gandhi during Kailash MansarovarYatra with pilgrims
--Advertisement--

मानसरोवर यात्रा: राहुल की तस्वीरों पर स्मृति ईरानी का तंज- आस्था को किसी सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं

राहुल गांधी ने अप्रैल में कर्नाटक चुनाव के दौरान इस यात्रा की घोषणा की थी

Danik Bhaskar | Sep 07, 2018, 10:21 PM IST

  • कांग्रेस ने कहा कि राहुल सभी तरह की नफरत को पीछे छोड़ यात्रा में आगे बढ़ रहे
  • भाजपा ने राहुल की यात्रा सवाल उठाए थे

नई दिल्ली. केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस द्वारा शेयर की गईं राहुल गांधी की मानसरोवर यात्रा की तस्वीरों पर तंज कसा। स्मृति ने अमेठी में एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि आस्था को कभी प्रामणिकता की जरूरत नहीं पड़ती। राहुल गांधी आज अपनी यात्रा का सर्टिफिकेट दे रहे हैं, उन्हें पता होना चाहिए कि भगवान सर्टिफिकेट नहीं मांगता। ये भक्ति का मार्ग नहीं बल्कि राजनीतिक सशक्तीकरण का प्रयास है।

राहुल गांधी 12 दिन की कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर हैं। वे 31 अगस्त को रवाना हुए थे। कांग्रेस ने शुक्रवार को राहुल गांधी की कुछ तस्वीरें शेयर की थीं। इन तस्वीरों में राहुल टोपी, चश्मा, जींस और जैकेट पहने हुए हैं। एक फोटो में उनके साथ एक युवक नजर आ रहा है। वहीं, दो अन्य फोटो में वे महिला तीर्थयात्रियों के साथ हैं। कांग्रेस ने ट्वीट में बताया कि राहुल मानसरोवर यात्रा के दौरान 34 किलोमीटर पैदल चल चुके हैं।

भाजपा ने तस्वीरों पर उठाए सवाल : केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने राहुल गांधी की तस्वीरों को फोटोशॉप करने का आरोप लगाया। उन्होंने लिखा, "यह तो फोटोशॉप है, छड़ी की परछाई गायब है।" अकाली दल के नेता और विधायक मानजिंदर सिंह सिरसा ने राहुल पर गूगल से फोटो चुराने का आरोप लगाया। सिरसा ने ट्वीट किया, कैलाश यात्रा पर झूठ बोलने वालों को जनता माफ नहीं करेगी। वहीं, कांग्रेस ने गिरिराज सिंह के बयान को दुर्भाग्यपूर्ण बताया।

राहुल ने कहा था- यहां कोई नफरत नहीं : राहुल गांधी ने बुधवार को कहा था कि व्यक्ति कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर तब जाता है, जब सरोवर उसे बुलाता है। मैं बहुत खुश हूं कि मुझे यह मौका मिला और मैं आपसे इस खूबसूरत यात्रा के अनुभव को साझा कर पा रहा हूं। राहुल ने मानसरोवर के पानी को बहुत शांत बताया था। उन्होंने कहा था- "यह पानी बहुत कुछ देता है। कोई भी इसका पानी पी सकता है। यहां कोई नफरत नहीं है। यही वजह है कि हम भारत में इस तरह के पानी की पूजा करते हैं।"

'कर्नाटक चुनाव के दौरान यात्रा तय की थी' : राहुल ने अप्रैल में कर्नाटक चुनाव के दौरान इस यात्रा की घोषणा की थी। राहुल ने कहा था- कुछ दिन पहले जब हम कर्नाटक आ रहे थे तो हमारा प्‍लेन अचानक किसी खराबी की वजह से 8000 फीट नीचे आ गया, मुझे लगा कि गाड़ी गई। उसी वक्त मैंने कैलाश मानसरोवर जाने का तय कर लिया था।