देश भर में कांवड़ियों के उपद्रव पर सुप्रीम कोर्ट नाराज, पुलिस को सख्त कार्रवाई करने का निर्देश

कांवड़ियां भगवान शिव के भक्त होते हैं और हर साल सावन के हिंदू महीने के दौरान तीर्थयात्रा शुरू करते हैं

DainikBhaskar.com| Last Modified - Aug 10, 2018, 03:09 PM IST

SC orders action against guilty on Kanwariya violence
देश भर में कांवड़ियों के उपद्रव पर सुप्रीम कोर्ट नाराज, पुलिस को सख्त कार्रवाई करने का निर्देश

- दिल्ली और उत्तरप्रदेश से कांवड़ियों द्वारा उपद्रव फैलाने की घटनाएं सामने आईं

- कोर्ट ने कहा- हर जुलूस या सार्वजनिक कार्यक्रम की वीडियोग्राफी की जानी चाहिए

 

नई दिल्ली.  सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को उत्तर भारत के अलग-अलग हिस्सों से कांवड़ियों द्वारा फैलाई जा रही हिंसा की घटनाएं सामने आने के बाद नाराजगी जताई। इन घटनाओं के वीडियो को देखने के बाद अदालत ने पुलिस को हिंसा फैलाने और कानून तोड़ने वाले अराजकतत्वों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करने का आदेश दिया।

चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली तीन जजों की बेंच ने कहा- हर जुलूस या सार्वजनिक कार्यक्रम की वीडियोग्राफी की जानी चाहिए। कोर्ट ने 2009 में दिए अपने एक फैसले का हवाला देते हुए कहा, "किसी कार्यक्रम या जुलूस के दौरान हिंसा फैलती है, तो संयोजक इसके जिम्मेदार होंगे।" 

 

दिल्ली और उत्तरप्रदेश में हुईं हिंसा की घटनाएं: दिल्ली के मोती नगर इलाके में बुधवार को कुछ कांवड़ियों ने कार में तोड़फोड़ की थी। कांवड़ियों का आरोप था कि कार चालक ने उनमें से एक को टक्कर मारी। 7 अगस्त को उत्तरप्रदेश के बुलंदशहर में भी ऐसी ही घटना हुई, यहां कुछ कांवड़ियों ने पुलिस की गाड़ी में तोड़फोड़ की थी। साथ ही स्थानीय लोगों के साथ हाथापाई भी की थी। इन घटनाओं के वीडियो सामने आए हैं। उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने कहा था कि दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

सावन महीने में कांवड़ियां करते हैं यात्रा: कांवड़ियां भगवान शिव के भक्त होते हैं और हर साल सावन के हिंदू महीने के दौरान तीर्थयात्रा शुरू करते हैं। ये तीर्थ यात्री गंगाजल को भारी बर्तनों में भरकर कंधे पर रखकर लाते हैं और इन्हें शिव मंदिर में चढ़ाते हैं। 

prev
next
Topics:
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now