मुंबई / अलग-अलग प्रोजेक्ट के लिए 5 साल में काटे गए एक करोड़ पेड़



प्रतीकात्मक फोटो। प्रतीकात्मक फोटो।
X
प्रतीकात्मक फोटो।प्रतीकात्मक फोटो।

  • आने वाले समय में करीब 3.5 लाख पेड़ और काटे जाएंगे

Dainik Bhaskar

Oct 13, 2019, 12:27 AM IST

मुंबई (विनोद यादव). हाल ही में मुंबई में मेट्रो प्रोजेक्ट के लिए  आरे के जंगल काटे जाने का मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचा। देश में अलग-अलग प्रोजेक्ट्स और योजनाओं के लिए पिछले 5 वर्षों में एक करोड़ से अधिक पेड़ काटे जा चुके हैं। अभी 3.5 लाख से अधिक पेड़ और काटे जाने हैं। सेंटर फॉर पॉलिसी रिसर्च की मंजू मेमन और पर्यावरणविद् मीनाक्षी नाथ ने यह जानकारी फॉरेस्ट एडवाइजरी कमेटी के विभिन्न मिनट्स, आरटीआई और विभिन्न अध्ययन से जुटाई है। वहीं जुलाई 2019 में सरकार ने लोकसभा में भी माना कि पिछले पांच साल में एक करोड़ नौ लाख पेड़ काटे गए हैं। 

 

किस प्रोजेक्ट के लिए कितने पेड़ काटे


भारतीय वन सर्वेक्षण विभाग के अनुसार देश के जंगलों में 1,365 करोड़ 84 लाख 54 हजार और जंगलों के बाहर 583 करोड़ 37 लाख 51 हजार पेड़ हैं। यानी कुल 2,048 करोड़ पेड़। दिल्ली ट्रीज एसओएस कैंपेन और माइ राइट टू ब्रीद जैसे अभियानों से जुड़ी पर्यावरणविद् मीनाक्षी नाथ बताती हैं कि अब तक विभिन्न प्रोजेक्ट्स में 3 लाख 61 हजार 644 पेड़ काटे (एक करोड़ नौ लाख पेड़ के अलावा) जा चुके हैं। वहीं भारत माला परियोजना और राज्य सरकारों द्वारा हाइवे के विस्तार जैसी योजनाओं में 3.5 लाख से अधिक पेड़े और काटे जाएंगे। वे दावा करती हैं कि महाराष्ट्र के महत्वाकांक्षी मुंबई-नागपुर एक्सप्रेसवे के लिए ही करीब 11 लाख पेड़ काटे जाने वाले हैं। हालांकि महाराष्ट्र में मुंबई से नागपुर तक बन रहे समृद्धि एक्सप्रेसवे के उपाध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक राधेश्याम मोपलवार बताते हैं कि हमने वन व पर्यावरण विभाग की मंजूरी के बाद ढ़ाई लाख पेड़ काटे हैं। मोपलावर कहते हैं कि इसके बदले हम साढ़े तीन गुना अधिक यानी 8 लाख 65 हजार पेड़ लगाने वाले हैं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना