देश में 100 वंदे भारत एक्सप्रेस चलेंगी, पहली गाड़ी को प्रधानमंत्री ने दी हरी झंडी

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • ट्रेन-18 एक सेमी हाई स्पीड गाड़ी है, जो 180 किमी की रफ्तार से चल सकती है
  • 100 में से सबसे पहले 30 नए ट्रेन सेट बनाने के लिए निविदा प्रक्रिया जल्द शुरू होगी जाएगी

नई दिल्ली. केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने देश में 100 वंदे भारत एक्सप्रेस (ट्रेन 18) चलाने का ऐलान किया है। मेक इन इंडिया के तहत बनीं देश की पहली सेमी हाई स्पीड ट्रेन वंदे भारत एक्सप्रेस का उद्घाटन शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया। इस ट्रेन को प्रधानमंत्री मोदी ने हरी झंडी दिखा कर वाराणसी के लिए रवाना किया। इस मौके पर गोयल ने कहा कि 100 नई ट्रेन बनाने के साथ देशभर के विभिन्न मार्गों पर वंदे भारत एक्सप्रेस गाड़ियों को चलाया जाएगा।

 

गोयल ने कहा कि प्रधानमंत्री चाहते थे कि देश में आधुनिक तकनीक से लैस विश्व स्तरीय ट्रेनें बनाई जाएं। हमारे इंजीनियरों ने इस चुनौती को स्वीकार किया और डेढ़ साल के रिकॉर्ड समय में दुनिया की सबसे सस्ती ‘ट्रेन 18’ तैयार की।

 

रेलवे ट्रैक को रफ्तार के अनुकूल बनाया जाएगा

रेलमंत्री ने कहा कि 100 में से सबसे पहले 30 नई ट्रेन बनाने के लिए प्रक्रिया जल्द शुरू हो जाएगी। रेलवे ट्रैक को विकसित करके 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार के अनुकूल बनाया जाएगा।

 

शताब्दी एक्सप्रेस से 1.3 गुना होगा किराया

रेलवे बोर्ड के सदस्य (यातायात) गिरीश पिल्लई ने बताया कि ट्रेन 18 का किराया शताब्दी एक्सप्रेस के किराए का 1.3 गुना एग्जीक्यूटिव श्रेणी में और 1.4 गुना चेयरकार में रखा गया है। गाड़ी में चेयरकार का किराया नई दिल्ली से वाराणसी के बीच राजधानी एक्सप्रेस के एसी 3 के किराए से कम है। गाड़ी को 17 फरवरी से यात्रियों के लिए शुरू किया जाना है।